100- 200 Words Hindi Essays, Notes, Articles, Debates, Paragraphs & Speech

आतंकवाद पर निबंध 2019 | Essay on Terrorism in Hindi Language

आतंकवाद पर निबंध 2019 | Essay on Terrorism in Hindi Language: आतंक शब्द का अर्थ भय, त्रास या अनिष्ट की पीड़ा होता हैं. नागरिकों पर हथियारों से हमला करना, उनके बीच भय का वातावरण बनाना. आतंकवाद कहलाता हैं. आतंकवादी शत्रु देश के इशारों पर क्रूरता का आचरण करते हैं.

आज ये आतंकवादी हमारे देश में ही नहीं, विश्व के अधिकांश देशों में अपनी आतंकी गतिविधियाँ चला रहे हैं. आतंकवाद से आज सभी भयभीत हैं. इसलिए यह एक विकराल समस्या हैं.

भारत में आतंकवाद-हमारा देश भी इस विकराल समस्या का सामना कर रहा हैं. हमारे देश में पंजाब में उग्रवादी प्रवृत्ति चली. वह शांत हुई तो 1989 से कश्मीर को लेकर आतंकवाद का प्रारम्भ हुआ. आतंकवादी हमारे पड़ोसी देश से प्रशिक्षण प्राप्त कर और विस्फोटक सामग्री लेकर हमारे देश में घुस आते हैं.

और चिन्हित स्थानों पर हमला कर देते हैं. इन्ही आतंकवादियों ने दिल्ली के लाल किले पर, श्रीनगर विधानसभा और संसद भवन पर हमला किया. इनके द्वारा किये जाने वाले हमलों से आमजन में भय का वातावरण बना हुआ हैं.

जम्मू कश्मीर सहित पूरे देश में जगह जगह आतंकवादी हमले होते रहे हैं. इन हमलों में आतंकवादी अत्याधुनिक हथियारों और विस्फोटक सामग्री का उपयोग करके नरसंहार करते हैं. 

२४ सितम्बर 2002 को गुजरात की राजधानी गांधीनगर में अक्षरधाम में कुछ आतंकवादियों ने अंधाधुंध गोलिया चलाकर ५० से अधिक लोगों को मार डाला. इसी प्रकार जयपुर में १३ मई २००८ को हुए आठ बम धमाकों से जहाँ ६७ से अधिक लोग मारे गये वहीँ २५० से अधिक लोग घायल हुए. २७ नवम्बर २००८ को मुंबई में अब तक का सबसे बड़ा आतंकी हमला हुआ जिसमें १९५ लोगों की मौत हो गई. ६० घंटे तक चले इस आतंकी हमलें में मुंबईवासियों की ही नहीं, पूरे देश और प्रशासन की नीद उड़ गई. आतंकवादी सुनियोजित ढंग से हमले करते रहते हैं.

आतंकवाद के दुष्परिणाम- भारत को पाकिस्तान से लगती अपनी सीमा पर सेना तैनात करनी पड़ रही हैं. इससे कभी भी भयानक युद्ध छिड़ जाने की आशंका बनी रहती हैं. आतंकवादी आए दिन आत्मघाती हमले करते रहते है. वे भारत में साम्प्रदायिक तनाव फैलाना चाहते हैं और दंगे करवाने की योजनाएं बनाते रहते हैं. हालाँकि प्रतिदिन कुछ आतंकवादी उग्रवादी मारे व पकड़े जा रहे हैं. परन्तु सीमाओं की सुरक्षा पर सरकार को काफी धन व्यय करना पड़ रहा हैं. और देश की सम्पति को नुकसान हो रहा हैं.

आतंकवाद को रोकने के उपाय- भारत में चल रहे आतंकवाद को सख्ती से दबाना चाहिए. इसके लिए सेना और सीमा सुरक्षा बल को पूरी छूट दे देनी चाहिए. इस सम्बन्ध में पाकिस्तान से भी शान्तिवार्ता होनी चाहिए तथा बेरोजगार युवकों को आतंकवादियों के चंगुल में नहीं फंसने देना चाहिए. विश्व के बड़े राष्ट्रों की सहायता लेकर आतंकवादियों के सारे शिविर नष्ट कर देने चाहिए. इस प्रकार देश को आतंकवाद से मुक्त किया जा सकता हैं.

उपसंहार- भारत सरकार आतंकवादियों की चुनौतियों का सामना कर रही हैं. हमारी सेनाएं उनका सफाया कर रही हैं. साथ ही आतंकवाद को बढ़ावा देने के कारण पाकिस्तान को दंडित करने की आवश्यकता हैं. इस सम्बन्ध में सरकार एवं जनता में परस्पर सहयोग अपेक्षित हैं.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

अपनी मूल्यवान राय दे