100- 200 Words Hindi Essays, Notes, Articles, Debates, Paragraphs & Speech

स्वतंत्रता दिवस पर निबंध | Essay on Independence Day in Hindi Language

स्वतंत्रता दिवस पर निबंध | Essay on Independence Day in Hindi Language

independence day speech in Hindi, independence day essay in Hindi Wikipedia, essay on independence day in Hindi 200 words, an essay on independence day in Hindi 150 words: हमारे देश भारत में अनेक पर्व त्योहार मनाए जाते हैं. पन्द्रह अगस्त हमारा ऐसा ही राष्ट्रीय पर्व हैं. क्योंकि सन १९४७ में इसी दिन हमारा देश विदेशी शासन की दासता से मुक्त हुआ था. कई देश भक्तों एवं महापुरुषों के त्याग व बलिदान से इस दिन हमारा देश स्वतन्त्रता प्राप्त कर सका. अतः इस पर्व को स्वतंत्रता दिवस के नाम से मनाया जाता हैं. 

मनाने का कारण-१५ अगस्त १९४७ ई भारत को स्वतंत्रता मिलने से शासन की बागडौर हमारे हाथ में आई और हम तिरंगे झंडे के नीचे एकत्र होकर स्वतंत्रता की श्वास लेने लगे. देश को स्वतंत्र कराने के लिए भारतीयों को लम्बा संघर्ष करना पड़ा तथा स्वतंत्रता आन्दोलन में कई देशभक्त शहीद हुए. अतः तब से लेकर प्रतिवर्ष शहीद देशभक्तों को श्रद्धांजली अर्पित करने के लिए तथा स्वतंत्रता की रक्षा करने का संकल्प लेने के लिए पन्द्रह अगस्त को इस राष्ट्रीय पर्व को मनाते हैं.

विविध कार्यक्रम- स्वतंत्रता दिवस के राष्ट्रीय पर्व को सरकार द्वारा जनता दोनों ही धूमधाम से मनाते हैं. इस दिन प्रातः काल से ही रोचक कार्यक्रम आरम्भ हो जाते हैं. देश की राजधानी दिल्ली में लाल किले की ऐतिहासिक प्राचीर पर प्रधानमंत्री द्वारा राष्ट्र ध्वज फहराया जाता हैं. 

सैनिक सलामी देते हैं. और तिरंगे झंडे के सम्मान में तोपें दागी जाती हैं. फिर प्रधानमंत्री अपना भाषण देते हैं. इस कार्यक्रम का प्रसारण दूरदर्शन आकाशवाणी पर किया जाता हैं. संध्या को सभी सरकारी भवनों, संसद भवन तथा राष्ट्रपति भवन पर रंग बिरंगी रौशनी की जाती हैं.

इसी प्रकार राज्यों की राजधानियों, जिला मुख्यालयों और शिक्षण संस्थाओं में झंडारोहण, मार्च पास्ट, सलामी, भाषण तथा सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किये जाते हैं. सभी कार्यक्रमों में राष्ट्रीय भावना को व्यक्त किया जाता हैं. तथा देश के विकास की प्रतिज्ञा की जाती हैं. इस प्रकार सभी लोग इस राष्ट्रीय पर्व को धूमधाम से मनाते हैं.

उपसंहार- प्रतिवर्ष स्वतंत्रता दिवस का आयोजन कर हम राष्ट्र की एकता और अखंडता का संकल्प लेते हैं. स्वतंत्रता प्राप्त हुए काफी समय हो जाने पर भी हमारा देश अपनी प्राचीन सम्रद्धि को प्राप्त नहीं कर सका हैं. अतः हमें इस पर्व पर अपने देश की हर प्रकार की उन्नति की प्रतिज्ञा करनी चाहिए. सभी भारतीयों को अपने अपने कर्तव्य का पालन करते हुए देश का गौरव बढ़ाना चाहिए.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

अपनी मूल्यवान राय दे