100- 200 Words Hindi Essays, Notes, Articles, Debates, Paragraphs & Speech

Essay On Electoral Reforms In India In English & Hindi Language For Students

Hello, Friends We Welcome You Essay On Electoral Reforms In India In English & Hindi Language For Students & Kids. If You Are Looking For Electoral Reforms In India Essay In Hindi Or Short Essay Speech Paragraph In English Language.

Essay On Electoral Reforms In India In English

we have a parliamentary democracy. so elections are an important feature of our democracy. free and fair elections are indispensable for a healthy democracy. in our democracy, the government is responsible to the people who have elected them.

but there are some shortcomings connected with our democracy which we have been carrying since long. our democracy has three dreadful things, that is, money power, muscle power, and mafia power.

the need of the hour is the removal of these three dreadful things. besides this, corruption, criminali-zation, casteism, and communalism are also to be wiped off. our political and electoral system has derailed the social, economic and administrative fabric of the country.

political parties adopt corrupt practices such as bribing, rigging, intimidation of voters, imperso-nation, and liquor being distributed during elections. as a result of this violence during elections has also increased. looking to all these shortcomings we urgently need political reforms and electoral reforms to make our political system more transparent and acceptable.

electoral reform means introducing a fair electoral system for conducting fair elections. some electoral reforms have already been introduced. they include evms, reducing the voting age from 21 to 18 years and anti-defection law.

besides, section 58 a has been inserted in the representation of people's representation act I of 1989 providing for an adjournment of the pole or revoking of elections because of booth capturing. besides these, the role of unaccounted money in elections should be checked and criminals should not be allowed to contest elections.

the weaker and vulnerable section among electors is given full protection. electoral rolls should be complete and correct. news coverage is authentic and honest. section 8 of people's representation act 1951 which provides for disqualification of any candidate on being convicted by a court of law be implemented strictly. these reforms will make our electoral system universally appreciable.

Essay On Electoral Reforms In India In Hindi Language

हमारे पास संसदीय लोकतंत्र है। इसलिए चुनाव हमारे लोकतंत्र की एक महत्वपूर्ण विशेषता है। स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव एक स्वस्थ लोकतंत्र के लिए अपरिहार्य हैं। हमारे लोकतंत्र में, सरकार उन लोगों के प्रति जिम्मेदार है जिन्होंने उन्हें चुना है।

लेकिन हमारे लोकतंत्र के साथ कुछ कमियां जुड़ी हैं, जिन्हें हम लंबे समय से निभा रहे हैं। हमारे लोकतंत्र में तीन भयानक चीजें हैं, वह है, धन शक्ति, बाहुबल और माफिया शक्ति।

समय की जरूरत है कि इन तीन भयानक चीजों को हटाया जाए। इसके अलावा, भ्रष्टाचार, अपराधीकरण, जातिवाद और सांप्रदायिकता का भी सफाया होना है। हमारी राजनीतिक और चुनावी प्रणाली ने देश के सामाजिक, आर्थिक और प्रशासनिक ताने-बाने को पटरी से उतार दिया है।

राजनीतिक दल चुनावों में वितरित किए जा रहे रिश्वत, धांधली, मतदाताओं को डराने, प्रतिरूपण और शराब जैसी भ्रष्ट प्रथाओं को अपनाते हैं। चुनावों के दौरान इस हिंसा के परिणामस्वरूप भी वृद्धि हुई है। इन सभी कमियों को देखते हुए हमें अपनी राजनीतिक प्रणाली को अधिक पारदर्शी और स्वीकार्य बनाने के लिए तत्काल राजनीतिक सुधारों और चुनावी सुधारों की आवश्यकता है।

चुनाव सुधार का मतलब निष्पक्ष चुनाव कराने के लिए निष्पक्ष चुनाव प्रणाली की शुरुआत करना है। कुछ चुनावी सुधार पहले ही पेश किए जा चुके हैं। वे EVMs शामिल हैं, 21 से 18 साल के मतदान की उम्र को कम करने और दलबदल विरोधी कानून।

इसके अलावा, धारा 58 को 1989 के लोगों के प्रतिनिधित्व अधिनियम i के प्रतिनिधित्व में डाला गया है, जो बूथ कैप्चरिंग के कारण चुनाव को स्थगित करने या चुनाव रद्द करने के लिए प्रदान करता है। इनके अलावा चुनावों में बेहिसाब धन की भूमिका की जाँच होनी चाहिए और अपराधियों को चुनाव लड़ने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए।

कमजोर और कमजोर वर्गों के बीच मतदाताओं को पूरी सुरक्षा दी जाती है। मतदाता सूची पूर्ण और सही होनी चाहिए। समाचार कवरेज प्रामाणिक और ईमानदार है। लोगों के प्रतिनिधित्व अधिनियम 1951 की धारा 8 जो कानून की अदालत द्वारा दोषी ठहराए जाने पर किसी भी उम्मीदवार को अयोग्य घोषित करने के लिए कड़ाई से लागू किया जाता है। इन सुधारों से हमारी चुनावी व्यवस्था सार्वभौमिक रूप से प्रशंसनीय होगी।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

अपनी मूल्यवान राय दे