100- 200 Words Hindi Essays, Notes, Articles, Debates, Paragraphs & Speech

Short Essay on Baisakhi in Hindi बैसाखी पर निबंध

Short Essay on Baisakhi in Hindi बैसाखी पर निबंध: नमस्कार दोस्तों आपका हार्दिक स्वागत हैं आज हम बैसाखी पर छोटा निबंध यहाँ साझा कर रहे हैं. सिख समुदाय के महत्वपूर्ण पर्व बैसाखी के बारे में बच्चों के लिए जानकारी इस निबंध में दी गई हैं.

Short Essay on Baisakhi in Hindi

भारत को त्योहारों का देश कहा जाता हैं. यहाँ हिन्दू, मुस्लिम, सिख, ईसाई सभी धर्मों के लोग यहाँ निवास करते हैं. सभी के अपने अपने पर्व त्यौहार एवं रीति रिवाज हैं. बैसाखी अर्थात वैसाखी सिख समुदाय का बड़ा त्यौहार है जो अंग्रेजी माह के अनुसार प्रतिवर्ष 13 या 14 अप्रैल के दिन मनाई जाती हैं.

बैसाखी का पर्व एक मौसम आधारित पर्व हैं, जिसे देशभर में बसने वाले हिन्दू एवं सिख भाइयों द्वारा मनाया जाता हैं. भारत के दो राज्य पंजाब तथा हरियाणा में इसका विशेष महत्व हैं. सिख समुदाय के अलावा भारत के अन्य जातीय एवं मत मजहब के लोग भी बैसाखी का उत्सव मनाते हैं. यह एक कृषि आधारित उत्सव है जो किसानों की फसल की कटाई के समय मनाया जाता हैं.

बैसाखी मात्र एक कृषि पर्व नहीं हैं बल्कि इसकी आस्था एवं परम्परा की दृष्टि से सिख धर्म से जुड़ा हैं. यह भाई चारे तथा एकता के प्रतीक पर्व के रूप में मनाया जाता हैं. बैसाखी का त्योहार गुरु गोविंद सिंह द्वारा सिख धर्म को संगठित करने की घटना के उपलक्ष्य में मनाया जाता हैं. 1699 से लगातार यह पर्व मनाया जाता हैं इस तरह बैसाखी का पर्व खालसा पंथ के प्रकट दिवस के रूप में मनाया जाता हैं.

उत्तर भारत में बैसाखी पर्व को रीति रिवाजों के अनुसार ही मनाया जाता हैं. इस अवसर पर पवित्र नदियों में स्नान करने की परम्परा हैं. इस अवसर पर धर्मावलम्बी नयें कपड़े धारण करते हैं तथा घर में पकवान तथा व्यंजन भी बनाए जाते हैं. इस दिन बैसाखी मेला आकर्षण का मुख्य केंद्र होता हैं. 

बैसाखी पर्व का हिन्दू धर्म से भी गहरा रिश्ता हैं. इसी दिन से हिन्दू नववर्ष की शुरुआत मानी जाती हैं. इस अवसर पर लोग स्नान तथा भोग व पूजन लगाते हैं. सिखों के गुरुद्वारों में इस अवसर पर कई प्रकार के धार्मिक एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किये जाते हैं. मन्दिर गुरुद्वारों में दर्शन के बाद पवित्र ग्रंथों का पाठ किया जाता हैं.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

अपनी मूल्यवान राय दे