100- 200 Words Hindi Essays 2021, Notes, Articles, Debates, Paragraphs & Speech Short Nibandh Wikipedia

यातायात के नियम पर निबंध Essay on Traffic Rules in Hindi

यातायात के नियम पर निबंध Essay on Traffic Rules in Hindi- आज के साधन संपन्न जीवन में नियमो का पालन करना बेहद जरुरी है. सड़क सुरक्षा को ध्यान मे रखते हुए. यातायात के नियम बनाए गए है. आज के आर्टिकल में हम यातायात के नियमो के बारे में विस्तार से जानेंगे.

यातायात के नियम पर निबंध Essay on Traffic Rules in Hindi

यातायात के नियम पर निबंध Essay on Traffic Rules in Hindi

आज के जमाने मे सड़क सुरक्षा एक महत्वपूर्ण विषय है। इसके बारे मे खासकर आज के युवा लोगो को इसके प्रति जागरूक करना हमारे लिए सबसे महत्वपूर्ण कार्य है।

लोगो को सड़क सुरक्षा के प्रति विभिन्न तरीको से जोड़ा जाए। बच्चे तथा युवाओ के लिए सड़क सुरक्षा को ध्यान मे रखना उनके लिए सबसे बड़ी ज़िम्मेदारी है।

प्रत्येक व्यक्ति को सड़क का प्रयोग करना पड़ता है। चाहे वह वाहन से हो या पैदल हर जगह अब सड़क का निर्माण किया गया है। सड़क पर हर रोज कई हादसे होते है। जिसमे कई लोग अपने इस संसार से अलविदा हो जाते है। इसमे खुद के अलावा किसी और का दोष नहीं होता है।

Essay on Traffic Rules in Hindi

हमारे देश मे वाहन तथा दुर्घटनाओ का आकड़ा Vehicle And Accidents Data In Our Country
हमारे इस पूरे संसार मे सभी वाहनो मे 1 प्रतिशत वाहन हमारे भारत मे है जो कि बहुत कम है। परंतु पूरे संसार मे प्रत्येक वर्ष होने वाली दुर्घटनाओ का 10 भाग हमारे भारत से है।

हमारे देश मे औसतम हर एक घंटे मे 53 दुर्घटना होती है। जिसमे 17 लोगो कि मौत भी होती है। यानि हमारे देश मे हर चार मिनट मे एक व्यक्ति की मौत दुर्घटना के करना होती है।

हर साल हमारे देश मे तकरीबन 5 लाख दुर्घटनाए होती है। जिसमे 2 लाख लोग मर भी जाते है। जिसका प्रमुख कारण उनकी लपरवाई तथा नशा है। 

यातायात के नियमो का महत्व Importance Of Traffic Rules

एक छोटी सी गलती किसी का प्राण ले सकती है। इसलिए हर व्यक्ति को सतर्क होकर यातायात के नियमो का पालन करना चाहिए। जिससे हमारे देश मे होने वाली दुर्घटनाओ की संख्या मे कमी आ सकें।

सरकार ने हमारे जीवन के महत्व को समझते हुए कई प्रकार के यातायात नियम बनाए है। हमे उनके अनुरूप चलकर खुद की सुरक्षा सुनिश्चित करनी चाहिए। दूसरों के लिए नहीं ही सही परंतु खुद की सुरक्षा करना हमारा कर्तव्य है। 

चौराये पर लाल, हरी तथा पीली बत्ती जलने का अर्थ /प्रतीक

आप हाइवे पर गए होंगे तो आपने वहा पर आपने सड़क के चौराए पर अलग-अलग रंग की बत्तियों को जलते हुए देखा होगा। जिसमे लाल, पीली तथा हरी बत्ती होती है।

लाल बत्ती जलने पर रुकना होता है। पीली बत्ती जलने पर तैयार होन तथा हरी बत्ती के जलने पर आगे चलने का प्रतीक होता है। वहा पर पैदल यात्रियो तथा साईकिल यात्रियो के लिए अलग से फुट पाथ बनाए गए है।

यातायात के नियम Traffic Rules in Hindi

पैदल यात्रा के समय हमे फुट पाथ का प्रयोग ही करना चाहिए। हमे कभी भी अपनी लाइन को नहीं तोड़ना चाहिए। हमे यू टर्न या किसी गली मे टर्न लेते समय पुछे चल रही गाड़ी के ड्राइवर को इशारा करना चाहिए। जिससे वह चालक सतर्क हो सके।

हमे हमेशा खड़े रहते समय अपनी गाड़ी को पार्किंग मे खड़ा करना चाहिए। हमे हमेशा वाहन कि निर्धारित गति मे चलना चाहिए। जिससे गाड़ी को बहुत जल्द ही संतुलन बनाया जा सके। 

गाड़ी चालक तथा सवार को नियमित रूप से यातायात के नियमो का पालन करते हुए सीट बेल्ट का प्रयोग करना चाहिए। तथा दुपाइया वाहन के चालक को सबसे ज्यादा सतर्क रहना चाहिए। उन्हे हेल्मेट लगाना चाहिए।

स्कूल कोलोज तथा अस्पताल के आगे गाड़ी को धीरे से चलाए तथा वहा पर हॉर्न का प्रयोग न करे। आज के समय मे हमारे देश की सरकार बहुत ही समझदारी से यातायात के नियमो का पालन करवा रही है। 

यातायात के नियमो का उल्लंघन करने का परिणाम

यदि कोई व्यक्ति व्यस्क नहीं है। यानि उसकी आयु 18 वर्ष के कम है। तो उसके द्वारा गाड़ी चलना कानूनन अपराध है।

बिना लाइसेन्स के गाड़ी चलना, बिना हेलमेंट के दुपाइया वाहन चलना, सीट बेंत का प्रयोग नहीं करना यातायात के नियमो का पालन नहीं करने वाले तथा यातायात के नियमो का उल्लंघन करने पर जुर्माना लगाया जाता है। 

हमारे विद्यालय मे यातायात से संबन्धित कार्यकर्मों का आयोजन किया जाता है। हमे इसके महत्व के बारे मे दी जाने वाली जानकारी को नजर अंदाज नहीं करना चाहिए।

हमे अपने जीवन ओ बचाने के इन नियमो का पालना करना होगा। हमारी सुरक्षा की ज़िम्मेदारी हमारी है। खुद की सुरक्षा करना हमारा धर्म है। इन सभी नियमो को मध्य नजर रखते हुए हमे दूसरों को इसके महत्व के बारे मे बोध करना चाहिए। दुर्घटना के मामले मे हमारा देश सबसे आगे है।

दुर्घटना का प्रभाव

भारत मे पिछले एक दशक मे 14 लाख लोगो की मौत का कारण दुर्घटना बनी है। हर साल देश मे दुर्घटनाओ की संख्या मे निरंतर वृद्धि होती जा रही है।

जो व्यक्ति दुर्घटना मे मारता है। उसके परिवार पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है। कई बार तो लोग अपने परिवार मे दुर्घटना सुनकर खुद आत्महत्या कर लेते है। 

मृतक के परिवार के साथ-साथ समाज तथा हमारे देश की अर्थ व्यवस्था पर भी इसका गहरा प्रभाव पड़ता है। हमारे मे हुए आज तक सभी युद्धो मे मरने वाले लोगो से ज्यादा लोग हर साल हमारे देश मे दुर्घटना से मरते है। 

हमारे देश मे बॉर्डर (देश के लिए बलिदान ) से ज्यादा हमारे देश की सड़कों से ज्यादा मरते है। इस प्रकार की परस्थिति को देखकर मुझे बहुत बुरा लगता है। मै मेरे देश मे लपरवाई से मरने वाले लोगो के लिए एक पंक्ति कहना चाहता हूँ। 

''कि मारना है। तो अपने वतन के लिए मरो 
इन लापरवाई के चक्कर मे मरने  से क्या फायदा।।''

यातायात के नियमो का बच्चो को बोध कराना

विद्यालय मे समय-समय पर सड़क सुरक्षा के कार्यकर्म आयोजित होने है। जिसमे सड़क सुरक्षा का पोस्टर बनाना तथा सड़क सुरक्षा यातायात के नियमो के बारे मे निबंध लिखना आदि कई प्रकार की प्रतियोगिताओ के माध्यम से सरकार बच्चो को बचपन से ही अपने जीवन की सुरक्षा के नियम सीखा सकें।

यातायात के नियमो के बारे मे विद्यार्थियो को कार्यकर्मों का आयोजन कर जानकारी प्राप्त कराना सरकार का दायित्व है। यदि बच्चो को विद्यार्थी जीवन मे ही इन नियमो के बारे मे जानकारी दी जाए तो विद्यार्थी इस समस्या को समझ सकते है।

सड़क दुर्घटना को रोकने के लिए हमे प्रत्येक विद्यालय तथा घरो मे जाकर सभी को यातायात के नियमों के महत्व के बारे मे जानकारी प्राप्त कराये। एक व्यक्ति को उसे अपने कस्बे मे नियमो के बारे सभी को जानकारी प्राप्त कराये तो ये कार्य हमारे लिए आसान हो जाएगा।

यातायात के नियमो का प्रसार-प्रचार

सभी को यातायात के नियमो तथा सड़क सुरक्षा के बारे मे जानकारी प्राप्त करने से ही हमारे देश मे होने वाले प्रति दिन हजारो दुर्घटनों की संख्या कम हो। हमारे देश के लिए दुर्घटना एक चिंता का विषय बना हुआ है।

लोग अपनी नादानी से खुद के प्राण भी गवा देते है। भारत सरकार द्वरा बनाए गए यातायात के नियमो का पालन करे। तथा सभी को इसके लिए प्रेरित करे। ये हमारी तथा हमारे सम्पूर्ण देश की मांग है।

यातायात के नियमो के प्रति हमारे  दायित्व 

यातायात के नियमो के प्रति हमारे अनेक दायित्व बनते है। हमे अपने जीवन मे हमेशा यातायात के नियम का पालन करे और अपने पहचान के लोगो को इसके लिए प्रेरित करे।

जो अनपढ़ है। या उसे नियमो का महत्व पता नहीं है। तो उसे नियमो के महत्व तथा नियमो का उलंघन करने का परिणाम के बारे मे जानकारी प्राप्त कराये। विद्यालय मे प्रत्येक कार्यकर्म मे यातायात के इन नियमो के बारे मे अपने विचार प्रकट करे।

जागरूकता बढ़ाने के तरीके

हमारे देश को दुर्घटना से मुक्त कराने के लिए हमे जागरूक होना सबसे जरूरी है। यदि हम जागरूक नहीं हुए। आने वाले कल मे हमारे लिए ये एक बीमारी के रूप मे बन जाएगी।

इसलिए हमे जल्दी से जल्दी देश को दुर्घटना रहित बनाना है। खुद पर नियंत्रण बनाए और देश की सेवा करे।यही हमारे लिए उचित है।

हर व्यक्ति को समझने की जरूरत है। कि हमारा जीवन कितना मूल्यवान है। तथा हमें अपने जीवन की सुरक्षा का दायित्व हमारा हैं। एक गलती से कई लोगो की जान भी जा सकती है।

अधिकांश दुर्घटनाए लपरवाई तथा नशे से होती है। नशा करके वाहन चलना नियमो का उल्लंघन करना है। हमे यातायात के नियमो और विनामयों को गंभीरता से लेते हुए।

इनकी बातों को अमल में लाए। नियमो का पालन करके खुद की सुरक्षा के साथ-साथ समाज में एक अच्छा संदेश भी दे सकते हैं।

कैसे ट्रैफिक नियम सुरक्षा में सुधार करते हैं?

यातायात के नियम की सरंचना कुछ विनिमय तरीको से की गई है। जिससे यात्री सुरक्षित रह सके। यातायात के नियम के अनुसार हमे सड़क के बाई और चलना चाहिए। तथा ओवरटेक दायीं तरफ से करना चाहिए। इन्हे विपरीत दिशा मे रखा गया है।

यदि ओवरटेक को बायी तरफ रखा जाता तो दुर्घटना तथा पैदल यात्रियो के लिए खतरा हर समय बना रहता है। सड़क पर ज़ेबरा क्रॉसिंग बनाया जाता है।

ज़ेबरा क्रॉसिंग के पास हमे धीरे चलना चाहिए। क्योकि कोई भी व्यक्ति आसानी से आसानी से सड़क को पार कर सके।

भारतीय सड़कें असुरक्षित क्यों हैं?

हमारे देश मे अनेक वाहन विद्यमान है। और इनकी संख्या निरंतर बढ़ती जा रही है। अधिकांश लोगो का एक ही लक्ष्य होता है। गाड़ी खरीदकर चालक बनाना भारत मे हर समय हर जगह पर गाड़ियो तथा यात्रियो की भीड़-भाड़ छाई रहती है। जिसका प्रमुख कारण है। हमारे देश मे सड़कों की कमी तथा अधिक वाहन का होना। 

एक सड़क पर अनेक गड़िया चलती है। हर समय सड़क पर गड़िया-ही गड़िया होती है। हमारे देश मे होने वाली दुर्घटनाओ का एक कारण सड़कों की कमी भी है।

हमारे देश मे कई सालो से सड़कों का निर्माण कार्य प्रगति पर है। और सड़क विजन 2021 के तहत भारत मे 2021 तक हर जगह सड़क का निर्माण हो जाएगा। 

तेज गति वाले वाहन के लिए अलग तथा धीरे चलने वाले वाहनो के लिए अलग सड़कों का निर्माण करवाया जाए। ज्यादा भीड़ होने पर लोग नियंत्रण को खो देते है।

और नियमो का उलंघन करते है। सड़क के किनारे पर दुकाने बहुत ज्यादा सख्या मे बनाई गई है। जिससे सड़क के आकार को छोटा कर दिया जाता है।

सड़क सुरक्षा Road Saftey  

हर व्यक्ति को अपने जीवन मे सड़क की आवश्यकता होती है। सड़क सुरक्षा हमारे लिए एक महत्वपूर्ण विषय है। लोगो को इसके प्रति जागरूक करने के लिए सरकार ने सड़क सुरक्षा के नियमो को सामाजिक शिक्षा से जोड़ा है। 

आधुनिक काल मे सड़क सुरक्षा एक महत्वपूर्ण विषय है। खासकर ये बच्चो तथा बूढ़े लोगो के लिए ज्यादा महत्वपूर्ण है। आकडे के अनुसार विश्व मे हर साल 15 लाख दुर्घटनाए होती है।

जिसमे से 2 लाख दुर्घटनाए भारत मे भी होती है। जिसमे ज़्यादातर बच्चे की दुर्घटनाए होती है। हमारे देश के अस्पतालो मे ज़्यादातर मरीज सड़क दुर्घटना के होते है।

सड़क दुर्घटना के कारण 

सड़क दुर्घटनाओ के अनेक कारण होते है। परंतु नशा तथा लपरवाई दुर्घटना का प्रमुख कारण होते है। सड़क दुर्घटना के कारण निम्न है-
  • अपरिपक्व बच्चे द्वारा वाहन का चलना। 
  • यातायात के नियमो का ज्ञान न होना। 
  • सड़क पर गड्डो का होना। 
  • सड़क पर पानी का होना। 
  • सड़क पर आवारा पशुओ का घूमना तथा जंगली जानवरो का सड़क पर आना।
  • नशा करके वाहन चलाना। 
  • वाहन चलाते समय मोबाइल का प्रयोग करना। 
  • बिना संकेत किये ओवरटेक करना। 
  • यूटर्न लेते समय ईशारा न करना।
  • अनियंत्रण गति मे वाहन को चलाना। 
  • दुपईया वाहन चलाते समय जूते का प्रयोग न करना।
  • सड़क दुर्घटना से बचाव के उपाय 
  • हमारे देश मे हो रही दुर्घटनाओ से हमे बचाव के लिए यातायात के नियमो की पालना करनी चाहिए।
  • वाहन की गति को नियंत्रित सीमा तक ही रखें। 
  • वाहन चलाते समय किसी भी प्रकार का नशा न करें। 
  • जो पूर्ण रूप से वाहन चलाने योग्य नहीं है। उसे वाहन चलाने न दें। 
  • गाँव, गल्ली तथा मोहल्ले मे वाहन को धीरे चलाए।
उपसंहार 

हमारे इस बहुमूल्यी जीवन को हमे सुखी तथा सुखद बनाने के लिए हमे यातायात के नियमो का पूर्ण रूप से पालन करना चाहिए। इस संसार मे हम कुछ अच्छा करे।

हमारे जीवन की सुरक्षा हमारी ज़िम्मेदारी है। हमे अपने जीवन को सुरक्षित बनाना है। यदि हम सुरक्षित तो सब सुरक्षित यही मानकर यदि हमे चले तो जल्द ही हमारा देश सड़क दुर्घटना मे होने वाली मौतों पर नियंत्रण कर सकेगी। इसलिए खुद की सुरक्षा खुद की ज़िम्मेदारी यही हमारे लिए उचित है।

ये भी पढ़ें
प्रिय दर्शको उम्मीद करता हूँ, आज का हमारा लेख यातायात के नियम पर निबंध Essay on Traffic Rules in Hindi आपको पसंद आया होगा, यदि लेख अच्छा लगा तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें.