100- 200 Words Hindi Essays 2022, Notes, Articles, Debates, Paragraphs Speech Short Nibandh Wikipedia Pdf Download, 10 line

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर भाषण | Speech on International Yoga day in Hindi

 योग दिवस पर भाषण | Speech on International Yoga day in Hindi- योग दिवस हर साल 21 जून को देशभर में मनाया जाता है. इस दिन अनेक सांस्कृतिक कार्यक्रम होते है. जिसके लिए आज के आर्टिकल में हम कुछ बेहतरीन भाषण yoga day speech लेकर आए है, जो आपको पसंद आएगे.

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर भाषण | Speech on International Yoga day in Hindi

योग दिवस पर भाषण | Speech on International Yoga day in Hindi
आप को सभी को मेरा नमस्कार आज हम सभी स्वास्थ्य और अपने उज्ज्वल भविष्य के लिए इस दिवस की मुहीम चलाने के लिए एकत्रित हुए है. जैसा कि आप जानते है,

आज हम योग दिवस के अवसर पर एकत्रित हुए है. इस दिवस का उद्देश्य लोगो को अपनी स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करना है. योग के द्वारा हम एक स्वस्थ जीवन जी सकते है. 

योगा के महत्व को मध्यनजर रखते हुए. आज हम इस दिवस को मानाने के लिए एकत्रित हुए है. योग हमारे देश में प्राचीन समय से किया जाता है. इसके लाभ और महता के कारण आज देश के लाखो लोग  नियमित रूप से योगा करते है. तथा लाभ की प्राप्ति करते है. 

आज भी देश में कई लोग योग से वंचित रह रहे है. यदि योग दिवस के अवसर पर लोग योग को अपने जीवन में धारण कर लेते है, तो हम अपने प्रयास को सफल मानेंगे. भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा 2014 मे योग दिवस मानाने का प्रस्ताव रखा था.

21 जून 2015 को पहली बार दिल्ली में अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया गया, जिसमे 170 देशो ने भाग लिया और एक साथ सबसे अधिक लोगो ने योग करके एक वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया जिसे अन्तर्राष्ट्रीय मंच पर प्रदर्शित किया गया.

हर साल इस दिन योग दिवस सरकारी कार्यालयों में मनाया जाता है. तथा सभी देशवासियों को नियमित योग करने और इसके लाभ के बारे में बताया जाता है. इसी प्रयास के कारण देश में अधिकांश लोग नियमित योग करते है.

आप मै से भी अधिकतर लोग नियमित योग करते होंगे, और कुछ लोग नहीं भी करते होंगे. इसलिए आज के इस दिवस का मुख्य उद्देश्य आप सभी लोगो को योग के प्रति प्रेरित करना है. हमें उम्मीद है, आप सभी योग को अपने दैनिक जीवन का हिस्सा बनाएगे.

कई लोग कहते है, योग क्यों महत्वपूर्ण है? आज अधितकतर लोग बीमारियों से ग्रस्त रहते है. तथा कई लोग चिंता ग्रस्त रहते है. जिस कारण अपना कार्य सही ढंग से नहीं कर पाते है. इन सभी समस्याओ का समाधान ही योग है.

योग करके हम शारीरिक तथा मानसिक रूप से स्वस्थ रह सकते है. तथा साथ ही मोटापा, दुबलापन और कमजोरी की स्थिति से छुटकारा पा सकते है. इसलिए मेरा आप सभी से आग्रह है, कि रोजाना योग जरुर करें. धन्यवाद जय हिन्द वन्दे मातरम्..

Speech on International Yoga day in hindi For Teacher

माँ शारदे को नमन.. प्यारे विद्यार्थियों मै आपका योग शिक्षक ......... जैसा कि आप जानते है. आज हम योग दिवस के इस शुभ अवसर पर यहाँ एकत्रित हुए. योगा हमारा दैनिक जीवन का भाग है. आज मै इस अवसर पर योग के महत्व और इसके लाभ के बारे में आपको इस छोटे से भाषण के माध्यम से बताना चाहूँगा.

योग हमारे लिए सबसे अधिक लाभदायक दवाई है. पर हमें ये नहीं भूलना चाहिए, कि इसे नियमित रूप से करना चाहिए. कई लोग इस दिवस के अवसर पर योग करते है, पर पुरे सालभर नहीं करते है. जो कि गलत बात है.

योग दिवस का उद्देश्य सभी को इस दिन योग कराना नहीं है. इस दिन हमें योग के प्रति जागरूक कर रोजाना योगा के लिए प्रेरणा देना है. योग करने मात्र से ही जीवन में बीमारियों से मुक्ति और शारीरिक तथा मानसिक नियन्त्रण बन जाता है, जो किसी औषधि से नहीं मिल पाता है.

वजन उठाना या जिम में जाना मात्र ही योग नहीं होता है. घर पर रहकर योग करना सबसे बेहतर माना जाता है. लम्बे समय तक योग करना जरुरी नहीं है, यदि हम रोजाना आधा घंटा योगा को दें तो ये बहुत है.

हम अपने आदर्शो को धन्यवाद् देने चाहेंगे, जिन्होंने हमें योग के बारे में बताया. पर आज की भाग दौड़ की जीवनशैली में योग सभी के लिए परेशानी बन चूका है. पर पिछले कुछ सालो से दूरदर्शन और सोशल मिडिया के माध्यम से हमें योग के बारे में बताया जाता है, जो हमें प्रेरित करता है.

मै पिछले पांच साल से नियमित १ घंटा योग अभ्यास करता हूँ, जिसमे दौड़ना, व्यायाम हरी साँस लेना, विश्राम करना और ध्यान भी शामिल है. योग की शक्ति के कारण मुझे पिछले पांच साल से कोई बिमारी नहीं हुई है. ये हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ा देता है.

वैसे योग से अनेक लाभ है, जिन्हें हम शब्दों से बया नहीं कर सकते है. पर कुछ गुण जो सामान्य व्यक्ति में होने चाहिए, वे हमें योग से मिलते है. जिसमे सुंदर काया, चमकदार त्वचा, अच्छा निर्मित लचीला शरीर, विनियमित वजन, कार्य के प्रति लग्न, तंदरुस्त स्वास्थ्य, तेजी, स्फूर्ति और शांत मन आदि प्रमुख लाभ है.

एक शारीरिक रूप से असंतुलित व्यक्ति योग से अपने शरीर को संतुलित बना सकता है. तथा अपने जीवन में सफल हो सकता है. इसलिए योग को अपने जीवन का महत्वपूर्ण हिस्सा बना लेना चाहिए.

हमारा टीम को दो साल से अधिक समय हो गया. और हमारा प्रयास सराहनीय रहा है. अभी तक हम हजारो लोगो को योग से जोड़ चुके है. हमारा प्रयास जारी रहेगा. हमें प्रधानमंत्री द्वारा शुरू की गई इस मुहिम को आगे बढाकर देश के सभी नागरिको को योग करने के लिए प्रेरित करना है.

आज के इस कार्यक्रम में उपस्थित सभी लोगो को योग दिवस की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं. आप सभी को इस अवसर पर अपने परिवारजनों और रिश्तेदारों को योग करने के लिए जागरूक बनाना है.

इस साल योग दिवस की थीम यानी सन्देश मानवता के लिए योग को रखा गया है. इसलिए आप सभी मानवता के लिए योग को फैलाए और सभी तक हमारे इस सन्देश को पहुंचाए.

आप सभी ने मिलकर इस कार्यक्रम की शोभा को बढाया. और सभी ने इस कार्यक्रम में भाग लिया. इसलिए आप सभी को पुनः इस दिवस की बधाई और उज्ज्वल भविष्य की कामना करते है. धन्यवाद जय हिन्द..

Yoga Day Speech For Students

माँ शारदे को नमन मेरे प्रिय गुरुजनों और मेरे साथ पढने वाले छोटे बड़े भाइयो और बहनों आप सभी को सबसे पूर्व मेरी तरफ से तथा मेरे विद्यालय की तरफ से योग दिवस की हार्दिक बधाईयाँ और शुभकामनाएं.

आज के इस कार्यक्रम में मुझे बोलने का मौका दिया इसी आप सभी को धन्यवाद. अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस की शुरुआत 2015 में की गई. इसका प्रस्ताव नरेन्द्र मोदी द्वारा 2014 में रखा गया था.

योग का वास्तविक अर्थ शरीर और मन का संतुलन है.योग से एक खुशहाल जीवन जिया जा सकता है. इसलिए योग हमारे जीवन के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है. खासकर मेरे युवा और छोटे बड़े साथियों के लिए जिन्हें शिक्षा की प्राप्ति में योग से सहायता मिलती है.

योग से मन को शांति मिलती है. तथा कार्य करने की दृढ इच्छा उत्पन्न होती है. जिससे हर कार्य करने में सहयता मिलती है. इसलिए हमें योग को जीवन में अपनाना चाहिए तथा सभी को इसके प्रति जागरूक बनाना होगा.

यदि हम इस आयु से योग की शुरुआत करते है, तो हमे स्वास्थ्य सम्बन्धी किसी भी समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा. इसलिए रोजना खुद को १ घंटा या शुरुआत में आधा घंटा समय देकर योग अभ्यास करें.

योग से हम शरीर को हर परिस्तिथि में फिट रख सकते है. योग से हम बड़ी से बड़ी बीमारी से अपनी रक्षा कर सकते है. रोजाना योग करने वाले व्यक्ति हमेशा स्वस्थ और तंदरुस्त रहते है.

मानसिक कमजोरी या नकारात्मक भाव से भी ध्यान के द्वारा गायब किया जा सकता है. योग दिमाक को तेज किया जा सकता है. तथा शरीर को लचीलापन दिया जा सकता है.

योग से हमें अनेक लाभ होते है. इसलिए इसका हमारे जीवन में विशेष महत्व है. इसी कारण सरकार पिछले कई सालो से प्रयास कर रही है. तथा हमें सरकार का सहयोग कर अपने जीवन को स्वस्थ और बीमारियों से मुक्त बनाना होगा.

इस योग दिवस के अवसर पर आप सभी योग को अपने जीवन का अभिन्न हिस्सा बनाए तथा प्रण ले कि रोजाना योग करूँगा\करुँगी.  अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस का उद्देश्य सभी को योग करने के लिए सजग करना है.

यह भारत सहित विश्व के 170 से अधिक देशो में मनाया जाता है. इसका मकसद सेलिब्रेट करना या एक दिन के लिए योग करना नहीं है. इस दिन से हमेशा योग करें. तथा सभी को योग से अवगत करवाए. और अधिक से अधिक लोगो को इसके बारे में बताए.

एक विद्यार्थी होने के नाते से मै आप सभी से आग्रह करता हूँ, कि रोजाना योग करें तथा सभी को सजग करें. आप सभी को पुनः बधाई और शुभकामनाएं. उम्मीद है, आप आज से ही योग करेंगे. और देश के सपने को सच में बदलेंगे. धन्यवाद जय हिन्द... वन्दे मातरम्...

speech on yoga in hindi

आदरणीय प्रधानाचार्य जी महोदय, सम्मानित मंच, मेरे शिक्षक साथियों और प्यारे विद्यार्थियों. आज हम योग दिवस के इस विशेष अवसर पर एकत्रित हुए है. योग का जीवन में महत्व आपके साथ साझा करूँगा.

आज का कार्यक्रम योग को समर्पित है. यह दिवस 2017 में संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस के रूप में मनाया जाना लगा. इस दिन को योग दिवस मानाने को लेकर माना जाता है, कि इस दिन आदि गुरु ने योग का ज्ञान दिया था.

योग की शिक्षा पहली बार इसी दिन दी गई जिस कारण इस दिन को योग दिवस के रूप मनाते है. आज योग दिवस के साथ साथ साल का सबसे बड़ा दिन भी है. आज के इस बड़े दिन पर हमें कुछ बड़ा करने की आवश्यकता है.

योग केवल शारीरिक स्वास्थ्य के लिए ही लाभदायक नहीं है. बल्कि ये हमारे शारीरिक और मानसिक संतुलन को बनाए रखने का काम भी करता है. तन मन का संतुलन ही योग है.

बेहतर ढंग से सिखने और ज्ञान की प्राप्ति का सबसे बेहतर साधना योग ही है. योग करके हम अपनी बौद्धिकता को तीव्र कर सकते है. योग कई तरीको से और आयु के अनुसार किया जाता है. इसलिए हमें अपने अनुसार ही योग करना चाहिए. योग को संस्कृत में आसन कहा जाता है.

योग करना बहुत ही सरल होता है. पर इसे करने के लिए हमें नियमित कुछ समय हमारे शारीर के लिए समर्पित करने होंगे. योग करने से व्यक्ति शारीरिक और मानसिक रूप से सहज नजर आता है.

नकारात्मक विचार, नींद न आना, या अत्यधिक आना तथा बौधिक क्षमता का कम होना. आदि जैसी समस्याओ का समाधान कोई दवाई नहीं हो सकती है. इसका समाधान हम घरेलु योग से कर सकते है.

आज के इस शुभ अवसर पर यहाँ विराजमान सभी लोगो को मै योग को अपने जीवन में नियमित रूप से अपनाने का आग्रह करता हूँ. योग बीमारियों को जड़ो से समाप्त कर देता है.

इस उत्सव का उद्देश्य केवल २१ जून को हर साल योग करना नहीं है. इसका वास्तविक ओचित्य सभी को योग के प्रति जागरूक करना है. यहाँ उपस्थिति सभी लोगो से में आग्रह करूँगा, कि आप आज से ही योग शुरू करें.

यदि यहाँ विराजमान सभी लोग अपने अपने परिवार को नियमित योग कराने में सफल होते है, तो हमारे गाँव में स्वास्थ्य सम्बंधित समस्याए सामने नहीं आएगी. इसलिए आज के इस दिवस पर आप सभी से हमारा यही सन्देश है, कि योग को जीवन लाए. धन्यवाद  जय हिन्द..

ये भी पढ़ें
प्रिय दर्शको उम्मीद करता हूँ, आज का हमारा लेख अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर भाषण | Speech on International Yoga day in Hindi आपको पसंद आया होगा, यदि लेख अच्छा लगा तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें.