100- 200 Words Hindi Essays, Notes, Articles, Debates, Paragraphs & Speech

अपने देश के प्रति मेरे कर्त्तव्य पर निबंध Essay on My Duty towards my Country in Hindi

 अपने देश के प्रति मेरे कर्त्तव्य पर निबंध Essay on My Duty towards my Country in Hindi

हमारे देश के हर देशवासी को देश के प्रति बनाए गए नियमो तथा कर्तव्यो का पालन करना चाहिए। हमे अपने देश की हर ज़िम्मेदारी को निभाना हमारा धर्म माना जाता है। देश के द्वारा बनाए गए नियमो को कभी ठुकराना नहीं जाना चाहिए। बल्कि नियमो की पालना ईमानदारी के साथ निभानी चाहिए।

निबंध  (600 शब्द)

परिचय

किसी भी व्यक्ति को अपने देश के कर्त्तव्य को निभाना उनकी ज़िम्मेदारी होती है। हमारे देश के विकाश के लिए कर्तव्यो की पालना करना जरूरी है। इसके लिए हम सभी को जागरूक होना जरूरी है। अपने कर्त्तव्यों को पालन करना हमारी ज़िम्मेदारी है। हमारे देश ककई यह सबसे बड़ी मांग है। 

 मेरे देश के प्रति मेरे क्या कर्तव्य हैं:

हम हमरे देश को अपना परिवार समझना चाहिए। जिस प्रकार हमारे परिवार मे हमारा  परिवार का मुखिया जो नियम बनाता है। हम उसी की रह पर चलते है। इसी प्रकार हमे अपने देश के नियमो तथा कर्तव्यो का पालन करना चाहिए। इसके लिए हमे सभी को जागरूक करना महत्वपूर्ण है।

 सरकारी नौकरी करने वाले लोग जैसे- सरकारी या निजी कार्यालयों में काम करने वाले लोगों,शिक्षक,पटवारी,बैंक मैनेजर,डॉक्टर तथा ग्रामसेवक आदि को समय पर अपने कार्य स्थल पर पहुँचकर अपने सम्पूर्ण कार्यो को ईमानदारी के साथ करना चाहिए।

 अपना समय बर्बाद नहीं करके समय अपने कर्तव्यो का पालन करना चाहिए। किसी कवि ने सही लिख है। कि जो समय को बर्बाद करता है। उसे जवाब मे समय बर्बाद कर देता है। इसलिए अपने तथा आपने देश के लिए समाय बचाए।

 समय बहुत बहुमूली है। ये किसी का इंतजार नहीं करता है। समय से भी हमे सीख मिलनी चाहिए। कि हमे निरंतर चलना है। रुकना हमारा कम नही है। हमे समय पर यदि कार्य नहीं करेंगे तो हमे तथा दूसरे लोगो को नुकसान होगा।

 हम दूसरों को दोष देते है। कि उस नेता ने ऐसा नहीं किया। परन्तु सच ये है। कि इसके जिम्मेदार हम ही है। दोषी हम ही है। जो देश के कर्तव्यो का पालन नहीं करते है। हमे अपने देश को विकसित देश बनाने के लिए हम सभी को संकल्प लेना चाहिए। कि हम देश द्वारा बनाए गए कर्तव्यो का पालना करेंगे तथा दूसरों को भी इसके लिए प्रेरित करेंगे। 

देश के प्रति उनकी जिम्मेदारियां:

शिक्षक: शिक्षक को भगवान से भी बढ़कर बताया गया है। शिक्षक ही एकमात्र नागरिक होते है। जो छात्रो को ज्ञान देते है। तथा छात्रों को एक सफल व्यक्ति बनने के लायक बनाते है। तथा उन्हे उज्ज्वल भविष्य कि कामना करते है।

 शिक्षक को अपनी जिम्मेदारियो को निभाकर अपने छात्रों को समय पर पढ़ाई-लिखाई करना,समय पर विद्यालय आना,बड़ो के साथ अच्छा व्यवहार करना,अपना गृहकार्य समय पर पूरा करने तथा अनुशासन रखने कि प्रेरणा देते है। यही एक छात्र को अपने जीवन मे सीखना चाहिए। यदि शिक्षक अपनी इस ज़िम्मेदारी को नहीं निभाएंगे तो छात्र इस ज्ञान को अर्जित नहीं कर सकेंगे।

 शिक्षक को सभी छात्रों के साथ समान रूप से व्यवहार करना चाहिए। हमे हमारे देश के सभी गुरुओ से यही प्रार्थना  है। कि वह बच्चो को अच्छी शिक्षा ग्रहण करावे।  

डॉक्टर: एक डॉक्टर को हम भगवान मानते है। जो किसी की जान बचा सकते है। तथा उन्हे नया जीवन प्रदान करते है। हमारे देश कई स्वार्थी डॉक्टर होने के कर्ण हमरे देश का नियंत्रण बिगड़ रहा है।

 यदि सभी डॉक्टर अपने कर्तव्यो को निभाते है। तो हमारे देश मे रोगियो की संख्या मे कमी देखने को मिलेगी। डॉक्टर समय पर अस्पताल मे आकार अपने कर्तव्यो का पालन करते है। तो हमारा देश शीघ्र ही एक विकसित तथा बेहतर देश बन जाएगा। हमे हमारे देश के सभी डॉक्टर से यही मांग करते है। कि वो अपने कर्तव्यो की पालना ईमानदारी के साथ करे। और औरों को इसके लिए प्रेरित करे। 

राजनेता: हमारे देश मे आर्थिक तथा सामाजिक स्थिति देश के नेताओ पर निर्भर करता है। हमारे देश मे कई लालची नेताओ की वजह से हमारे देश की राजनीतिक स्थिति बिगड़ रही है। इसके पीछे स्वार्थी राजनेताओ का हाथ होता है। राजनेताओ को अपने देश के लिए अपने कर्तव्यो की पालना करनी चाहिए। और सभी को इसके लिए प्रेरित करना चाहिए।  

पुलिसकर्मी : देश की आंतरिक शांति तथा सुरक्षा बनाए रखना पुलिककर्मियों का कर्तव्यो का पालन करना चाहिए। पुलिस को देश के विकास के लिए वफादार होना सबसे जरूरी माना जाता है। पुलिस को प्रत्येक व्यक्ति के साथ समान रूप से कानून का उपयोग करना चाहिए। यही हमारे देश के लिए महत्वपूर्ण माना जाता है।

आम नागरिक  आम आदमी हमारे देश का सबसे जरूर नागरिक होता है। इनके ऊपर सबसे ज्यादा जिम्मेदारिया होती है। आम आदमी अपने महत्वपूर्ण मत देकर एक अच्छे नेता का चयन करते है। आम आदमी को अपने शहर के विकास करने वाले नेता का ही चयन करना चाहिए। आम आदमी का यही उनका सबसे महत्वपूर्ण कर्तव्य होता है। इसे आम नागरिक को वफादारी के साथ करना चाहिए।  

 निष्कर्ष-

हमारे देश के सभी नागरिकों की महता समान होनी चाहिए। हर नागरिक को अपने कर्तव्यो को निभाना चाहिए। किसी का बुरा नहीं करना चाहिए। सभी पर कानून समान रूप से व्यवहार करे। प्रत्येक जगह पर साफ-सफाई करनी चाहिए। सभी को मिलकर हमारे देश को एक विकसित देश बनाना है। हमारी यही आप सभी से प्रार्थना है।