100- 200 Words Hindi Essays 2022, Notes, Articles, Debates, Paragraphs & Speech Short Nibandh Wikipedia

नशा मुक्ति पर निबंध Essay on Nasha Mukti In Hindi

नशा मुक्ति पर निबंध-आज के ज़माने में नशा लोगो का शौक बन चूका है.नशा एक अभिशाप है.पर लोग इसमे बढ़ चढ़कर भाग ले रहे है.नशा युवाओ की शान बन चूका है.आज के इस आर्टिकल में हम नशा मुक्ति के बारे में सम्पूर्ण जानकारी प्राप्त करेंगे.

नशा मुक्ति पर निबंध Essay on Nasha Mukti In Hindi

नशा मुक्ति पर निबंध Essay on Nasha Mukti In Hindi

आज हर युवा नशे की छपेट में है.कोई अफीम का नशा करता है,कोई शराब का तो कोई जर्दा गुटका या बीडी का इस प्रकार देखा जाए तो सभी नशे के अधीन बन चुके है.लोग नशे में अंधे हो गए है.


हमारे देश में होने वाली दुर्घटनाओ के अधिकांश मामले नशे में ही पाए जाते है.जो व्यक्ति नशा करता है.वह अपने जीवन की उन्नति नहीं कर सकता है.नशा शुरू तो जीवन की बर्बादी शुरू यही नियम है.


आज के इस वैज्ञानिक युग में हर देश को उन्नति के लिए युवाओ के सहयोग की जरुरत है.वही हमारे देश में आज अधिकांश लोगो का सबकुछ नशा ही है.अपनी शुरूआती दौर में ही लोग नशा करना शुरू कर देते है.


इसी कारण आज तक हमारा देश विकसित नहीं हो सका है.सभी लोग अपनी-अपनी मर्जी के हिसाब से चल रहे है.भारत सरकार ने नशा मुक्ति के लिए कई कानून चलाये और आज तो लोगो को निशुल्क नशा छुड़वाया जाता है.पर लोग सरकार की एक भी नहीं सुन रहे है.और नशे के इस अन्धकार में जा रहे है.


आज हर देश का विकास देश की युवा पीढ़ी पर टिकी हुई होती है.उसी प्रकार हमारे देश की उन्नति भी युवाओ पर है.और हमारे देश के युवा इस जिम्मेदारी को अनसुना कर रहे है.हमारे देश में लगभग 50 प्रतिशत से ज्यादा लोग नशा करते है.


वहीँ कई लोग अपने जीवन का महत्व नशा करना ही मानते है.देश में आज नशा करने पर रोक लगाई गई है.पर फिर भी लोग नशा करते है.अनेक लोग नशे की वजह से कैंसर जैसे कई भयानक रोगों के शिकार होते है.पर इस बात को मानाने को तैयार ही नहीं है.सभी नशे को सही बताते है.


पुराने समय में जब कोई पार्टी होती थी.तो लोग मिलते थे.एक दुसरे से बातचीत करते थे.और खाना खाकर घर चले जाते थे.पर आज की पार्टिया कुछ अलग किस्म की होनी लगी है.पार्टी में खाना तो होता ही नहीं है.और कई पेकेट शराब और गुटका और तम्बाकू लाया जाता है.


शराब के बिना पार्टी होती ही नहीं है.कई लोग पार्टी का जश्न मानाने के चक्कर में इस मौत के मुंह में अपना हाथ डाल देते है.


आज के लोग अपने शरीर में होने वाली हानि की तरफ नजर भी नहीं लगाते है.बस नशे को अपना शोक बना लिया है.और इसे अपनी पहली पसंद मानते है.पर जितना ये लोग इसे अच्छा मानते है.उतना ही ये उनके लिए हानिकारक होता है.नशा लोगो की जान तक ले लेता है.पर लोग इसे समझ नहीं रहे है.


आज के युवा लोग सरकार को पागल समझते है.सरकार उन्हें भले के लिए सभी नशीले पदार्थो पर बन लगाया गया है. सिगरेट,गुटका तथा शराब पर खुला-खुला लिखा होता है.ये आपके सेहद के लिए हानिकारक है.फिर भी लोग इसका सेवन करते जा रहे है.


आज युवाओ के साथ-साथ नव पीढ़ी भी इसका सेवन कर रही है.10 साल के लड़के नशा करते है.हमारा देश आज भी गुलाम है.पहले मुगलों का बाद में अंग्रेजो का और आज नशे का गुलाम बना हुआ है.हमारे देश के किराणे के सामान से ज्यादा नशीली वस्तुओ का निर्यात हो रहा है.


नशे से व्यक्ति के शरीर में हानि के साथ साथ उनके शारीरिक तथा मानसिक रूप से भी गहरा असर पड़ता है.नशा करने वाले व्यक्ति के घर में हमेशा लड़ाई-झगडा होता रहता है.इससे पारिवारिक सम्बन्ध टूट जाते है.


नशा करने के बाद व्यक्ति दानव बन जाता है.लोग नशा करके किसी को गाली गलोज करते है.जिससे कभी मार भी पड़ सकती है.कई बार नशा ज्यादा करने के कारण लोग सड़को पर गिरते उठाते घुमते है.तथा घर जाते समय दुर्घटना का खतरा रहता है.इस प्रकार नशे से प्राण भी जा सकते है.


जो व्यक्ति नशा करते है.इसका सम्मान नहीं होता है.उसे पागल की तरह रखा जाता है.आज हमारे देश को नशा मुक्ति की आवश्यकता है.आज ज्यादातर लोग गरीब होने का कारण नशा ही है.


लोग अपना नशा ही पूर्ण कर पाते है.अपने परिवार को भूखा रखते है.पर खुद कमाकर अपना नशा करते है.यही सबसे बड़ी कमजोरी है.


नशे की शुरुआत मजे से होती है.कई बार नशा करने पर खूब मजा आता है.मजे के चक्कर में हर कोई नशा सिख जाता है.पर जब नशा लोगो का मजा लेना शुरू कर देता है.उस समय नशा नहीं छोड़ पाते है.


नशे जीवन को नरक बना देता है.जो व्यक्ति नशा नहीं करता है.उस व्यक्ति को आज के जीवन का सबसे महान व्यक्ति माना जाता है.और नशा मुक्ति से ही जीवन की उन्नति संभव है.


नशा करने वाले व्यक्ति को अपनी वास्तविक स्थिति का ज्ञान नहीं होता है.इसलिए वह जो मन में आए व् नशा करते है.भलेही उनके नशे से उनका परिवार भूखा रहे.


नशा एक ऐसा जाल में जिसमे फंसने के बाद इस लत को छुड़ाना बहुत मुश्किल होता है.इसलिए पहले से ही सावधान रहे.किसी भी हालात में नशा ना करें. न मजे के लिए ओर न ही चैन के लिए नशा जीवन की बर्बादी है.नशा जीवन को अन्धकार में झोंक देता है.


देश की सरकार ने नशा मुक्ति के लिए नशीली पदार्थो को बंद कर दिया गया है.पर लोग अवैध रूप से इसका व्यापार करते है.उन लोगो पर भारत सरकार की ओर से सजा का प्रावधान किया गया है.कड़ी सजा होने के बावजूद भी लोग पैसो के लालच में इस अवैध कार्य को करते है.


हमारे देश के सभी नागरिको को नशे से होने वाले नुकसान के बारे में जानकारी दें. तथा उन्हें नशे से दूर रहने के लिए प्रेरित करें. और जो लोग आज नशे के इस जाल में फंसे हुए है.उन्हें नजदीकी किसी नशा छुड़वाने वाले केंद्र में भेजे तथा उनसे नशा छोड़ने की प्रार्थना करें.


ये भी पढ़ें 

इस आर्टिकल को सभी के साथ शेयर करें. जिससे सभी इसके बारे में जान सकें.और अपना जीवन इस नशे से बचा सकें.नशे को भागकर ही हम अपने देश के उज्जवल भविष्य की कामना कर सकते है.