100- 200 Words Hindi Essays, Notes, Articles, Debates, Paragraphs & Speech

ईमानदारी एक दुर्लभ गुण निबंध | essay honesty is a rare quality in hindi

ईमानदारी एक दुर्लभ गुण निबंध essay honesty is a rare quality in hindi: आज के संसार में ऐसे बहुत कम ही लोग हैं जो ईमानदारी को अपना जीवन आदर्श मानते हैं. अधिकतर लोग अपने स्वार्थों के वशीभूत होकर सही गलत के भेद नहीं करते हैं. आज हम एक दुर्लभ गुण ईमानदारी पर हिंदी में निबंध स्टूडेंट्स के लिए बता रहे हैं.

essay honesty is a rare quality in hindi

ईमानदारी का अर्थ हैं अपने कर्तव्यों का सही से पालन करना, यह मानव जाति का सबसे अच्छा गुण है जो मानव को अच्छाई की राह पर ले जाती हैं. ईमानदार व्यक्ति जीवन में हमेशा विकास करते हैं तथा औरों को भी साथ लेकर आगे बढ़ते हैं. ओनेस्टी के जरिये किसी का भी दिल जीता जा सकता हैं तथा परस्पर रिश्तों की डोर को मजबूत किया जा सकता हैं. ईमानदार व्यक्ति किसी के भरोसे पलने की बजाय आत्मनिर्भर बनता हैं.

असल में जिन्दगी के मायने यही है जिसे ईमान और अपने सिद्धांतों पर जीया जाए. इस कारण मानव जीवन में ईमानदारी का बड़ा महत्व माना गया हैं. बच्चों में ईमानदारी को बचपन से ही पैदा किया जा सकता हैं इसके लिए उन्हें ईमानदारी का अर्थ जीवन में इसके महत्व कहानी या निबंध के जरिये बताने चाहिए आज हम यहाँ एक ईमानदारी का शोर्ट निबंध स्कूल kids के लिए बता रहे हैं.

ईमानदारी पर निबंध – Essay on Honesty in Hindi

प्रस्तावना

ईमानदारी, हर मनुष्य के जीवन में सच्चाई और ईमानदारी का बड़ा महत्व होता हैं. ये सिद्धांत उसे कई फायदे देता हैं जिनमें चरित्र निर्माण भी एक हैं. यह व्यक्ति को सम्मान दिलाती हैं तथा समाज में एक आदर्श व्यक्ति का स्थान दिलाने का काम ईमानदारी करती हैं.

ईमानदारी क्या है एवं इसका अर्थ – Meaning of Honesty

सच्चाई और ईमानदारी ये दो शब्द एक दूसरे के पर्याय समझे जाते हैं. ईमानदारी एक आदत है चरित्र का गुण है जो साधारण व्यक्ति को भी महान बनाने का सामर्थ्य रखती हैं. यह जीवन में सत्य की पथ पर चलने की ओर प्रेरित करती हैं.

यह इन्सान के मन को पवित्र तथा उसकी नैतिकता को कई गुना बढ़ा कर समाज के समक्ष प्रस्तुत करती हैं एक ईमानदार व्यक्ति सदा खुश तथा संतोष के बीच जीवन यापन करता हैं. अन्य लोगों के बीच उनकी एक भरोसे मंद व्यक्ति के रूप में पहचान बनती हैं.

एक ईमानदार व्यक्ति कभी भी अनैतिक, गलत और अनाचारी कार्यों का भागी नहीं बनता हैं. यदि सभी लोग पूरी तरह से ईमानदार बन जाए तो वाकई रामराज्य की स्थापना की जा सकती हैं.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

अपनी मूल्यवान राय दे