100- 200 Words Hindi Essays, Notes, Articles, Debates, Paragraphs & Speech

ईमानदारी एक अच्छा गुण है विषय पर अपने विचार लिखिए honesty is the best quality essay in hindi

ईमानदारी एक अच्छा गुण है विचार लिखिए honesty is the best quality essay in hindi: दोस्तों आप सभी का स्वागत करता हूँ आज हम निबंध में जानेगे कि ईमानदारी एक अच्छा गुण अथवा सर्वश्रेष्ठ नीति कैसे हैं. चलिए इस निबंध स्पीच को पढ़ते हैं.

honesty is the best quality essay in hindi

हम सभी ईमानदारी और सच्चाई को मानव की सबसे अच्छी नीति मानते हैं मगर इसे इसी रूप में जीवन में अपनाना बेहद कठिन भी हैं. धीरे धीरे अपने आदत व चरित्र में ईमानदारी के गुण को ढालकर इसे विकसित किया जा सकता हैं. इसके अभ्यास तथा जीवन में अमल के लिए समय की आवश्यकता भी रहती हैं. हमारे जीवन में ईमानदारी का क्या महत्व हैं इसे निम्न प्रकार समझा जा सकता हैं.

दो देशों, दो पड़ोसियों यहाँ तक कि एक ही परिवार के दो सदस्यों अथवा मित्रों के बीच में रिश्ते ईमानदारी की नींव पर ही टिके रहते हैं. आपसी विशवास को पैदा करने का एक बड़ा हथियार ईमानदारी का गुण हैं. सामान्य अर्थों में ईमानदारी का अर्थ है एक इन्सान का अच्छा व सच्चा होना माना जाता हैं.

हम किसी के दिमाग को सरलता से नहीं पढ़ पाते हैं मगर जब हम किसी से व्यवहार करते है तो हमें अमुक इंसान के ईमानदार होने या न होने की पहचान होती हैं. चरित्र निर्माण के मूल तत्वों में ईमानदारी को भी गिना जाता हैं. जो व्यक्ति साफ़गोई और ईमानदारी के साथ जीवन व्यतीत करता है उसे अतिरिक्त मानसिक शांति व ख़ुशी प्राप्त होती हैं. 

एक बेईमान इन्सान न केवल अपने अच्छे भविष्य के द्वार को बंध करता है बल्कि वह अपने ही कर्मों से कई नई समस्याओं को भी जन्म दे देता हैं. धोखा, मक्कारी अथवा झूठ बोलना किसी को अच्छा नहीं लगता हैं अंत में सामने वालों को उस पर क्रोध आता है तथा घ्रणा होने लगती हैं. इसके उलट ईमानदार व्यक्ति हमेशा अपने चेहरे की चमक के साथ दूसरों को प्रसन्नता देता हैं.

सत्य को इसलिए भी कडवा माना जाता है क्योंकि यह बोलने के लिए भी साहस की आवश्यकता पड़ती हैं जिस तरह देशी घी पसाने के लिए सामर्थ्य की जरूरत पड़ती हैं. बहुत से लोग डर अथवा भय के चलते ईमानदार होते है मगर उनका ईमान केवल डर तक ही बना रहता हैं. जब तक व्यक्ति अपने व्यवहार में इसे आत्मसात नहीं कर लेता है तथा स्वेच्छा से उसका पालन करने नहीं लगता है उसे ईमानदार नहीं कहा जा सकता हैं.

आज भारत ही नहीं समूची दुनियां भ्रष्टाचार की समस्या से ग्रस्त हैं. इस समस्या के मूल में ईमानदारी का अभाव होना बड़ा कारण हैं. यदि समाज में सभी लोग ईमानदार बन जाए तो ऐसी समस्याएं रातोंरात खत्म हो जाएगी. शुरू शुरू में ईमानदार बनना बेहद कठिन माना जाता है व्यक्ति को कई बार नुकसान भी उठाने पड़ते है मगर अंत में वही सुफल पाता हैं. लोगों में जिस तरह मानसिक तनाव की समस्या तेजी से बढ़ रही है उनका एक बड़ा कारण ईमानदारी को आत्मसात न करना हैं. 

व्यक्ति अपने अतीत के बेईमानी के कर्मों को मन में बोझ की तरह उम्रः भर ढोता है और एक दिन मानसिक रूप से बीमार बन जाता हैं. ईमानदारी का गुण विद्यार्थी काल से बेहद जल्दी विकसित किया जा सकता हैं. इसके अभ्यास के लिए घर तथा आस पडौस के अच्छे लोगों का होना भी जरुरी हैं.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

अपनी मूल्यवान राय दे