100- 200 Words Hindi Essays, Notes, Articles, Debates, Paragraphs & Speech

मेरा जन्म दिन पर निबंध | Essay on My Birthday in Hindi

मेरा जन्म दिन पर निबंध | Essay on My Birthday in Hindi: नमस्कार दोस्तों साल में एक दिन हम सभी अपना जन्मदिन मनाते हैं. वाकई सालभर में होने वाले सेलिब्रेशन में यह दिन बेहद अहम होता हैं. फ्रेंडस और बर्थडे पार्टी की बहुत सी यादे हम सभी के जेहन में होगी, आज आपके साथ मेरे जन्म दिन पर लिखा निबंध भाषण अनुच्छेद आपकों शोर्ट में बता रहे हैं.

मेरा जन्म दिन पर निबंध | Essay on My Birthday in Hindi

दुनिया भर में अपना जन्म दिन मनाने की परम्परा बेहद प्राचीन हैं. भारतीय संस्कृति एवं धर्म के मुताबिक आत्मा को कई यौनियों के जन्म के बाद ही अच्छे कर्मों से मनुष्य जीवन मिलता हैं. हम सत्कार्य करते हुए सैकड़ों वर्षों तक जीए यही कामना जन्मदिन पर मित्र, रिश्तेदारों द्वारा की जाती हैं.

भारत में जन्म दिन मनाने का रिवाज अधिक प्राचीन नहीं हैं. सम्भवतः यह राजाओं के दौर में ही शुरू हुई होगी, उस दौर में केवल शासकों के जन्म दिन के अवसर पर राज्यभर में धूम धाम से यह दिन मनाया जाता था, यज्ञ करवाए जाते थे, गरीबों में दान रूप में धन दिया जाता था.

आज जन्मदिन मनाना एक आम रिवाज बन चूका हैं. प्रत्येक आम आदमी वर्ष में एक दिन अपने बर्थ डे के दिन केक काटकर मनाता हैं. जान पहचान के सभी लोग इस अवसर पर गिफ्ट लाते हैं. हमारे देश के कई महान नेताओं तथा महापुरुषों के जन्मदिन भी देशभर में जयंती के रूप में मनाए जाते हैं. 

गत 10 जुलाई को 21 साल पुरे कर 22 वें वर्ष में प्रवेश कर रहा था. मेरा पिछला जन्मदिन पिछले सभी अवसरों में ख़ुशी का दिन था. सोशल मिडिया पर फ्रेड्स की विशेस की भरमार थी, दिनभर उनके बधाई संदेश आ रहे थे. सवेरे सवेरे मेरे घरवालों तथा पड़ोसियों ने मुझे विश किया. 

शाम को हमारे घर पर बर्थडे पार्टी रखी गई. जिसमें सभी दोस्तों को आमंत्रित किया गया. रात तक कई मित्र और रिश्तेदार हमारे घर पहुँच चुके थे. अगले दिन जब मैं कॉलेज गया तो अपने दोस्तों और टीचर्स के लिए भी मिठाई लेकर गया. सभी ने तालियाँ बजाकर मुझे हैप्पी बर्थडे कहा. 

जन्म दिन के मौके पर मुझे अपने दोस्तों, रिश्तेदारों, मम्मी पापा और भाई की ओर से उत्कृष्ट उपहार मिले, मैंने बड़ों के पैर छुए उन्होंने जुग जुग जियो और ये दिन आपके जीवन में बार बार आए के आशीष वचन कहे.

मेरे कई मित्र दूसरे शहरों में नौकरी पर थे, वे नहीं आ सके मगर उन्होंने जन्मदिवस पर बधाई पत्र भेजे. सभी के साथ हमने केक काटा. मेरी एक दोस्त ने गाना भी गाया, सभी ने खूब आंनद उठाया. कुछ दोस्तों ने मिलकर एक अच्छा नाटक भी किया, जिसे देखकर सभी लोटपोट हो गये.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

अपनी मूल्यवान राय दे