100- 200 Words Hindi Essays 2022, Notes, Articles, Debates, Paragraphs Speech Short Nibandh Wikipedia Pdf Download, 10 line

देश प्रेम पर निबंध Desh Prem Essay in Hindi

देश प्रेम पर निबंध- निस्वार्थ भाव से देश के लिए खुद को त्याग देना ही देशभक्ति है. जो अपने दोस्तों ,परिवारजनों तथा अपने रिश्तेदारों से रखे जाते है.वह देशप्रेम नही होता है.पर आज हम देश के प्रति सच्चे प्रेमभाव निष्ठा को देश प्रेम कहते है.आज के इस आर्टिकल में हम देश प्रेम के बारे में पढेंगे.
देश प्रेम पर निबंध Desh Prem Essay in Hindi

 देश प्रेम पर निबंध Desh Prem Essay in Hindi

प्रेमभाव मानव का एक गुण होता है. इसके बदोलत मानव को सहायता मिलती है. बिना प्रेम आज का जीवन बेकार है. प्रेम अनेक  प्रकार के होते है. कई प्रेम तो वे होते है. इस दुनिया में सबसे श्रेष्ठ बल प्रेम है. और सबसे श्रेष्ठ प्रेम देश प्रेम होता है.

वैसे तो प्रत्येक भारतीय अपने देश से प्रेम करता है.  पर हम उस प्रेम की बात नहीं कर रहे है. जो भावनात्मक तरीके से लगाया जाता है. परन्तु हम उस प्रेम की बात कर रे है. वह प्रेम जो देश के प्रति देश को कुछ समर्पित कर जो प्रेम दिया जाता है.अर्थात देश के लिए समर्पित हो जाना देश प्रेम कहलाता है.

वह देश प्रेम होता है. प्रत्येक व्यक्ति जो अपने देश में पला-बड़ा हुआ हो. अपने देश की माटी में खेला है. तो उसका स्वभाविक रूप से देश के प्रति प्रेम उमड़ता है. देश की रक्षा करना भी एक देश प्रेम होता है. जो भी कार्य हम निस्वार्थ भाव से देश के लिए करें. वह सच्चा देश प्रेम होता है. 
देश-प्रेम का अर्थ – अपने देश के प्रति प्रेमभाव या लगाव बनाये रखना ही देश प्रेम होता है. प्रत्येक व्यक्ति जिस भूमि पर जन्म लेना तथा बड़ा होता है. जिस मिट्टी में वह खेलता है. उसे उस मिट्टी से स्वभावी रूप से अपनी ,मातृभूमि से प्रेम हो जाता है. व्यक्ति अपने जीवन के भर अपने देश का आभारी रहता है. तथा देश को कुछ समर्पित करने की ईच्छा जाहिर करता है.

देश प्रेम शब्द दो शब्दों से मिलकर बना है. जिसका अर्थ होता है. देश के प्रति प्रेम. अर्थात स्वदेश के प्रति प्रेम ही देश प्रेम होता है. हमारे राष्ट्र के प्रति प्रेमभाव हमारा कर्तव्य है. हमें अपनी मातृभूमि से प्रेम होना चाहिए.देश प्रेम स्वाभाविक रूप से होना चाहिए. 

देश-प्रेम में त्याग – अपने देश के प्रति प्रेम बनाये रखने का सबसे श्रेष्ठ उदहारण देश की रक्षा करना होता है. एक सच्चा देश भक्त अपनी जान की प्रवाह किये बिना देश की सेवा में हर समय तत्पर रहता है. अपने देश प्रेम के लिए अपना घर,अपना परिवार तथा अपनी जान तक न्योछार करनी पड़ती है. यही देश के लिए एक व्यक्ति का श्रेष्ठ त्याग होता है. 

लोग अपने स्वार्थो को पूरा करने के लिए जीवन भर मेहनत करते है. लेकिन वे हर समय अपने लालच को बढ़ाते जाते है. और सिर्फ अपने लालच में ही मग्न रहते है. एक लालची व्यक्ति जो अपने स्वार्थ के लिए कार्य करता है. और राष्ट्र भक्त जो सच्चे दिल से देश की सेवा करता है.

दोनों ही अपना जीवन व्यतीत करते है. देश की सेवा करने वाला कभी भूखा नहीं रह सकता है. उस पर मातृभूमि खुद मेहरबान होती है. जो मातृभूमि का कदर करता है.उसकी कदर भारत माता करती है.

एक पवित्र भावना –  हम एक भारतीय नागरिक होने के नाते हमें देश की रक्षा करनी चाहिए. तथा देश के प्रति प्रेम एवं राष्ट्र भक्ति को बढ़ावा देना चाहिए.देश के प्रति पवित्र भावना को उज्जवल करना चाहिए. हमें अपने देश के लिए कुर्बान होने का मौका मिले तो हमें उसे नहीं ठुकराना चाहिए.

देश के लिए शहीद होना खुद के लिए गर्व की बात होनी चाहिए. देश के लिए शहीद होना देश प्रेम की निशानी है. प्रत्येक व्यक्ति के लिए उसका राष्ट्र ही गौरव होता है.अपने गौरव को बनाये रखने के लिए हमें देश के लिए सब-कुछ अर्पित कर देना चाहिए.

प्रेमी का जीवन– एक से परिवार बनता है. परिवार मिलकर समाज बनता है. समाज मिलकर एक राष्ट्र की नीव रखते है. इसलिए एक व्यक्ति का राष्ट्र निर्माण में अहम योगदान होता है. देश प्रेम की पहचान हम देश प्रेम और निजी प्रेम से टकराव से कर सकते है. 

यदि देश प्रेम जीता तो वह व्यक्ति सच्चा देश भक्त है. वरना खुद की रक्षा तो कुत्ते भी करते है.अपने राष्ट्र के लिए जीवन तक का त्याग कर देना सच्ची देशभक्ति तथा देश प्रेम होता है.

शाली विरासत व परम्परा- जब हमारा देश गुलाम हुआ करता था. तब हमारे देश को आजद कराने के लिए हमारे देश के कई अनगिनत महापुरुषों ने आजादी के लिए अपनी जान अर्पित कर दी थी. हमारे की सेवा हमारी परम्परा है.आज हम एक स्वतंत्र देश में जी रहे है. तो हमें गुलामी हो नहीं करनी पड़ती है. पर देश की सेवा के अनेक तरीके भी होते है. 

देश के बोर्डर पर जाकर देश की रक्षा करना,देश की आंतरिक व्यवस्था को बनाये रखना,देश में वस्तुओ का निर्माण करना,खेती-बाड़ी कर देश का पेट भरना आदि ये सभी उदहारण देश के सेवा के है. भारतीय नागरिक होते हुए हमें अपने दायित्व को भली-भांति निभाना चाहिए.

देश के लिए अपना जीवन अर्पित कर देना ही देश भक्ति नहीं है. किसी भी क्षेत्र से देश की सेवा करना देश भक्ति की निशानी है. देश के लिए वरदान बनकर देश का नाम रोशन करना देशभक्ति है.

देश-प्रेम-सर्वोच्च भावना – एक भारतीय के लिए धरती माता सबसे श्रेष्ठ होती है. देश प्रेम धन,दौलत से भी बढ़कर होना चाहिए. हमारे देश की भूमि हमारी मातृभूमि है. इसे माता का दर्जा दिया जाता है. 

ये हमारी रक्षा अपने बेटे की तरह करती है. इसलिए हमें इसका रक्षा अपनी माता की तरह करनी चाहिए. हमारे राष्ट्र की सुन्दरता तथा संस्कृति को बनाये रखना का हमारा प्रथम कर्तव्य है. 

आज देश प्रेम की आवश्यकता – आज हमारे देश को सच्चे प्रेम की आवश्यकता है. हमारे देश में बचने वाले गद्दार लोग पैसो के लालच में आकर अपनी माता यानि मातृभूमि को धोखा देते है. उन लोगो से देश को  बचाने के लिए हमें आज देश प्रेम की शक्त जरुरत है. आज हमारे देश में प्रेम का स्तर काफी अच्छा है. 

देश में जब भी कोई गद्दर द्वारा हमला किया जाता है. तब पूरा देश बदले की चाहत में रो उठता है. और देश तब तक शांत नहीं होता जब तक देश उनका बदला न लें. हमारी देश में जो प्रेम अभी बना हुआ है. वह प्रेम सदा बना रहे यही हम अपने देशवासियों से उम्मीद करते है.

हमारे देश में बचने वाले गद्दारों से बचने के लिए देश को एकता तथा अखंडा की शक्त जरुरत है. इसके बदोलत हमारे देश का विकास संभव है.देश के प्रति प्रेमभाव को बढ़ावा देने के लिए आचार्य शुक्ल जी स्नेह ने लिखा है-

''जो भरा नहीं है भावों से
बहती जिसमें रसधार नहीं
वह हृदय नहीं है पत्थर है
जिसमें स्वदेश का प्यार नहीं''
इन पक्तियों के माध्यम से शुक्ल जी कहना चाहते है। कि जिस व्यक्ति मे स्वदेश का प्रेम नहीं उस व्यक्ति का इस संसार मे कोई महत्व नहीं है। जो व्यक्ति अपने जाँती-पाँति धर्म और अपने कर्तव्यो को नहीं समझता उसका जीवन व्यर्थ है। 
इससे पत्थर भी अच्छा होता है। उसे जिस जगह रखा जाता है। वह वही पर रुक कर अपना कर्तव्य निभाता है। जो लोग देश के प्रति प्रेमभाव नहीं रखते उनके पास दिल है। जो पत्थर के सामन कठोर होता है।
आज हमारा देश बड़ी चिंताजनक स्थिति मे है। हमारे देश पर पाकिस्तान तथा चीन अपने देश के गद्दारो द्वारा हमला करवाते है। तथा जिससे हमारे देश को काफी नुकसान होता है। हमारे देश को सुरक्षित रखने के लिए तथा हमे खुद को सुरक्षित बनाने के लिए हमारा देश के साथ प्रेमभाव से देश की सुरक्षा करनी होगी। 
तभी हमारा देश प्रगति करने मे सक्षम हो सकेगा। इसलिए हम सब मिलकर देश की सुरक्षा का जिम्मे लें। तथा हमारे देश के हर नागरिक को देश के प्रति प्रेमभाव उत्पन्न करें।
देश प्रेम शायरी

अपनी धरती अपना वतन
अपना देश अपना जतन
ना दौलत की ना शौहरत
ना देखना मुहरत
बस देश की सेवा ही है अपनी शौहरत

आशा करता हूँ, दोस्तो आज का हमारा लेख देश प्रेम पर निबंध Desh Prem Essay in Hindi आपको पसंद आया होगा। यदि आज का लेख आपको पसंद आया तो इसे अपने दोस्तो के साथ शेयर करें। तथा ज्यादा से ज्यादा लोगो मे देश प्रेम की भावना को जगाए।