100- 200 Words Hindi Essays 2022, Notes, Articles, Debates, Paragraphs Speech Short Nibandh Wikipedia Pdf Download, 10 line

गुड फ्राइडे पर निबंध | Essay On Good Friday In Hindi 2022

गुड फ्राइडे पर निबंध Essay On Good Friday In Hindi: हमारा भारत एक बहु धार्मिक एवं सांस्कृतिक रूप से भी विविधताओं से भरा हैं. यहाँ हिन्दू मुस्लिम सिख ईसाई सभी समुदायों के लोग मिल जुलकर रहते हैं. यही कारण है कि संसार में मनाए जाने वाले लगभग समस्त त्यौहार (होली, दीपावली, ईद, क्रिसमस, ईस्टर, गुड फ्राइडे) भारत में भी मनाया जाता हैं.

गुड फ्राइडे पर निबंध Short Essay On Good Friday In Hindi

गुड फ्राइडे पर निबंध | Essay On Good Friday In Hindi
गुड फ्राइडे ईसाईयों द्वारा मनाया जाने वाला उत्सव है इसे ग्रेट फ्राइडे भी कहा जाता हैं. यह एक शोक पर्व है जो हर वर्ष ईस्टर से पूर्व आने वाले शुक्रवार को मनाया जाता हैं.

गुड फ्राइडे को मनाने के पीछे यह प्रसंग है कि इसी दिन को ईसा मसीह को यातनाएं देकर सूली पर चढ़ाया गया था, कई जगहों पर इसे ब्लैक फ्राइडे के नाम से भी जानते हैं.

शोक दिवस को गुड डे कहने के पीछे यह मान्यता है कि मसीह ने अच्छाई की खातिर अपने प्राणों का उत्सर्ग किया था इस वजह से उनके जीवन से जुड़े इस आखिरी दिन को ईसा मसीह के अनुयायियों द्वारा गुड फ्राइडे के रूप में मनाया जाता हैं. अमूमन यह उत्सव ग्रेगोरियन कलैंडर के अनुसार अप्रैल माह में ही पड़ता हैं.

आज से करीब दो हजार वर्ष पूर्व प्रभु यीशु का अवतरण हुआ था. उनका सम्पूर्ण जीवन मानवता, भाईचारे एकता और शान्ति के उपदेश देते व्यतीत हुआ. स्थानीय धर्म के गुरुओं ने यीशु की तेजी से बढ़ती लोकप्रियता से तंग आकर उसे मानवता का दुश्मन व ढोंगी करार दिया.

अपने प्रपंचों के बल पर ईसा पर राजद्रोह का हुकुम करवा दिया तथा म्रत्यु दंड के रूप में उन्हें काँटों के ताजकोड़ों व चाबुकों की मार निश्चित की. अंत में उनके जीवन का समापन कठोरतम शारीरिक यातनाओं से किया. यीशु को फ्राइडे यानी शुक्रवार के दिन ही सूली पर लटकाकर कीले ठोक कर यातनाएं देकर लटका दिया था.

आज भी इसाई धर्म के लोग सूली को युशी के प्रतीक के रूप में मानते है. धार्मिक ग्रन्थ बाइबल में लिखा गया है. कि यीशु के शरीर पर छ किले ठोककर यीशु को फांसी के फंदे पर लटका दिया गया था. जब यीशु के प्राण निकल्रे तो सम्पूर्ण पृथ्वी पर सनसनी फ़ैल गई पृथ्वी पर अन्धकार छा गया. ये दिन शुक्रवार का दिन था. 

इस दिन के बाद से ही प्रतिवर्ष इस दिन शुक्रवार को इसाई धर्म के लोग गुड फ्राइडे का त्यौहार मानते है. इसे चमत्कारी दिन माना जाता है. इस त्यौहार को मनाने के लिए इसाई लोग दोपहर के ४ बजे से एक जगह पर प्रार्थना करने के लिए एकत्रित हो जाते है.

अपने गॉड जीसस  से अपने सम्पूर्ण गुनाओ की माफ़ी मांगते  है. और इसी दिन इसा मसीहा को श्रद्धांजलि अर्पित की जाती है. इस दिन को ब्लेक फ्राइडे के रूप में भी मानते है. 

इस दिन इसाई लोग काले वस्त्र पहनकर अपना शौक व्यक्त करते है. ये इसाई धर्म का सबसे पवित्र सप्ताह होता है. इसाई धर्म के लोग इस उत्सव को अपना शौक प्रकट करने के लिए मनाते है. इसमे वे किसी भी प्रकार का कोई सेलिब्रेशन नहीं करते है. 

गुड फ्राइडे पर अनुच्छेद 

इसाई धर्म के अनेक लोगप्रिय उत्सवो है. जिसमे गुड फ्राइडे एक महत्वपूर्ण त्यौहार है. ये उत्सव को गुड फ्राइडे,ब्लैक फ्राइडे, होली फ्राइडे और ग्रेट फ्राइडे भी कहा जाता है।

इस उत्सव को इसाई धर्म के लोग मनाते है. इसाई धर्म के लोग अपने शोक के रूप में इसे मनाते है इस दिन इसाई घंटिया भी नहीं बजाते है.. ये अप्रैल माह में आता है. ये उत्सव गुड फ्राइडे ईस्टर संडे  से दो दिन पूर्व आता है.

इस उत्सव को मानाने के पीछे बहुत बड़ा राज छुपा हुआ है. मन जाता है. कि आज से लगभग २००० साल पूर्व ईसा मसीहा नामक एक बहुत ही परोपकारी तथा विद्वान् व्यक्ति था.

उसकी पुरे देश में लोगप्रियता को रोकने के लिए सरकार ने उन्हें फांसी के फंदे तक पहुंचा दिया. और ईसा मसीहा को मानवता का शत्रु के अपराध में सजाए मौत दी गई. और कोड़ों और चाबुकों की बरसात कर सूली पर लटका दिया गया था.

महाप्रभु ईसा ने अपना बलिदान कर सम्पूर्ण पाप को अपने सर पर ले लिया यही कारण है. कि इस उत्सव को इसाई धर्म के साथ-साथ सभी धर्म के लोग इसे मनाते है. ये दिन सभी के लिए पूण्य दिवस के रूप में माना जाता है. कहा जाता है. कि इस दिन सबसे ज्यादा पुण्य करने से हमारा मुक्ति होती है.

ये भी पढ़े
प्रिय दर्शको उम्मीद करता हूँ, आज का हमारा लेख गुड फ्राइडे पर निबंध | Essay On Good Friday In Hindi आपको पसंद आया होगा, यदि लेख अच्छा लगा तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें.