100- 200 Words Hindi Essays 2022, Notes, Articles, Debates, Paragraphs Speech Short Nibandh Wikipedia Pdf Download, 10 line

डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन पर निबंध Essay On Sarvepalli Radhakrishnan In Hindi

सर्वपल्ली राधाकृष्णन पर निबंध Essay On Sarvepalli Radhakrishnan In Hindi- सर्वपल्ली राधाकृष्णन जी एक महान राजनेता रहे जिन्होंने एक बार देश के उपराष्ट्रपति पद भी प्राप्त किया. इन्होने अनेक किताबो की रचना भी की. आज के आर्टिकल में हम डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन जी के व्यक्तित्व के बारे में जानेंगे.

डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन पर निबंध Essay On Sarvepalli Radhakrishnan In Hindi

डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन पर निबंध Essay On Sarvepalli Radhakrishnan In Hindi
 प्रसिद्ध भारतीय दार्शनिक महान शिक्षाविद और राष्ट्र के प्रखर वक्ता सर्वपल्ली राधाकृष्णन जी भारत के दूसरे राष्ट्रपति तथा पहले उपराष्ट्रपति बने| डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्म 5 सितंबर 1888 को पिता 

वीरस्वामी और माता सीता के घर हुआ इनका जन्म पुरोहित समाज में हुआ इनका परिवार एक मध्यम वर्गीय परिवार था| जहां शिक्षा और धार्मिक वातावरण सामंजस्य में दिखता था।

डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन की प्रारंभिक शिक्षा तिरुताणी से संपन्न हुई। आरंभिक शिक्षा पूर्ण करने के बाद वेल्लोर विद्यालय में प्रवेश किया और f.a. की शिक्षा संपन्न की।

महान शिक्षक डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन जी का जन्म 5 सितंबर 1888 को तमिलनाडु राज्य के तिरुत्तनी में हुआ. इन्होंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा तमिलनाडु के क्रिश्चियन मिशनरी संस्थान से की और फिर एमए की डिग्री प्राप्त की.

इनके ज्ञान और तर्कशक्ति के आधार पर इन्हें मद्रास प्रेसिडेंट कॉलेज तथा मैसूर यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर की भूमिका में नौकरी मिली. डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन जी एक शिक्षक के साथ-साथ एक कुशल लेखक भी थे जो भारतीय संस्कृति विरासत और यहां के पारंपरिक धार्मिक महत्व के बारे में उन्होंने अनेक किताबें लिखी है।

सर्वपल्ली राधाकृष्णन पर निबंध

एक कारीगर जिस प्रकार माटी को आकार देता है. उसी प्रकार एक शिक्षक अपनी शिक्षा से अपने शिष्य को आकार देता है. आज हम भारत के महान शिक्षक के जन्मदिन के अवसर पर शिक्षक दिवस का समारोह मनाते है.

हर साल ५ सितम्बर को राधकृष्ण जी के जन्मदिन को शिक्षक दिवस के रूप में मनाते है. ये एक महान शिक्षक तथा भारत के राष्ट्रपति भी रह चुके है. 1888 को तमिलनाडु के तिरुतनी में राधाकृष्णन का जन्म हुआ जिसे हम शिक्षक दिवस के रूप में मनाते है.

राधाकृष्णन जी न केवल एक शिक्षक थे, वे लेखक तथा एक महान शिक्षाविद भी थे, उन्होंने भारतीय संस्कृति और परम्पराओ का सम्मान किया हमेशा वे बच्चो के दिल में रहते है. उनके बच्चो के प्रति प्रेम लालनीय था.

ये भारत के राष्ट्रपति भी चुने गए तथा इन्हें अपने कार्य के लिए भारत के सर्वोच्च रत्न भारत रत्न से इन्हें १९५४ में सम्मानित किया गया. उनके अनुसार एक शिक्षक केवल किताबी ज्ञान ही नहीं देता है, बल्कि वह समाज को उच्च स्तर तक पहुँचाने की शिक्षा भी देता है. इसलिए गुरु का महत्व केवल ज्ञान में ही नहीं है.