100- 200 Words Hindi Essays, Notes, Articles, Debates, Paragraphs & Speech

यदि मैं अध्यापक होता निबंध | Yadi mein Adhyapak hota | Essay on If I Were a Teacher in Hindi Language

यदि मैं अध्यापक होता निबंध | Yadi mein Adhyapak hota | Essay on If I Were a Teacher in Hindi Language: मनुष्य एक संज्ञावान प्राणी हैं. इसलिए उसके मन में कुछ न कुछ आकांक्षाएं जन्म लेती रहती हैं. जिन्हें वह फलीभूत होते हए देखना चाहता हैं. प्रत्येक विद्यार्थी भी अपने जीवन में बड़ा बनना चाहता हैं.

इसके वह वह प्रारम्भ से ही प्रयास करना आरम्भ कर देता हैं. किसी के मन में इंजीनयर बनने की तो किसी के मन में डॉक्टर बनने की इच्छा होती हैं. कोई नेता, कोई उच्चाधिकारी तो कोई अध्यापक बनने की लालसा ह्रदय में लिए रहता हैं.

मेरी आकांक्षा-मैं भी अपने जीवन में कुछ बनना चाहता हूँ. जिसके माध्यम से समाज और राष्ट्र की सेवा कर सकू. इस ध्येय की पूर्ति के लिए मैंने अध्यापक बनने का निश्चय किया हैं. यही मेरी आकांक्षा हैं. इस पर मैंने भली प्रकार विचार कर लिया हैं. कि मैं अध्यापक होता तो क्या करता ?

आदर्श अध्यापक का स्वरूप- मैं एक आदर्श अध्यापक बनने का प्रयास करता, क्योंकि अध्यापक अपने विद्यार्थियों के लिए हर दृष्टि से आदर्श होता हैं. उसके प्रत्येक कार्य प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से शिक्षार्थी पर प्रभाव डालते हैं. मैं अपने और अपने व्यवहार को ऐसा बनाता जिसका अनुकरण मेरे विद्यार्थी कर सकते.

छात्रों का मार्गदर्शक- यदि मैं अध्यापक होता तो मैं उनकी पढ़ाई का पूरा ध्यान रखता और इस बात की सोच रखता कि उनके उज्ज्वल भविष्य का निर्माण मेरे हाथ में हैं. मैं उन्हें सादा जीवन उच्च विचार के साथ जीने की प्रेरणा देता. उनके साथ हमेशा अग्रज की तरह व्यवहार करता, उनका सच्चा मार्गदर्शन भी होता. मैं निर्धन छात्रों की हर तरह से मदद करता.

उपसंहार- अध्यापक देश के भावी नागरिकों का निर्माता होता हैं. उसके ही सही दिशा निर्देश से भावी पीढ़ी का निर्माण होता हैं. यदि मैं अध्यापक होता तो मैं एक आदर्श अध्यापक के सभी गुणों का निर्वहन करता हुआ अपने दायित्वों को अच्छी तरह से संभालता. धन नहीं हमारे लिए हमारा छात्र ही सब कुछ होता.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

अपनी मूल्यवान राय दे