100- 200 Words Hindi Essays, Notes, Articles, Debates, Paragraphs & Speech

जीवन में सुख दुख पर निबंध हिंदी में | Essay on happiness sorrow In life in hindi

जीवन में सुख दुख पर निबंध हिंदी में | Essay on happiness sorrow In life in hindi: नमस्कार दोस्तों  प्रत्येक क्षण की जरूरत अलग-अलग इस लेख के माध्यम से यह जानने का प्रयास रहेगा कि किस तरह व्यक्ति प्रतिदिन घटित घटनाओं के आधार पर जीवन में दुख सुख इत्यादि का निर्धारण करते हुए अग्रसर रहता है.
                 जीवन में सुख दुखपर निबंध हिंदी में | Essay on happiness sorrow In life in hindi

क्या आप जानते हैं इस वक्त आपके साथ जो हो रहा है वह आपकी इस क्षण की जरूरत है नहीं ना हो सकता है  अभी आपको इस बात पर भरोसा ना हो परंतु जवाब इतिहास के पन्ने पलट कर देखेंगे तो आप ही जानेंगे कि आपके जीवन में जो भी घटना घटित हुई है वह उस समय के मुताबिक से बिल्कुल सही थी क्या समय अनुकूल थी इस बात को आप आज स्वयं ही स्वीकार करेंगे.

जैसे संपूर्ण स्वास्थ्य के लिए भोजन में खट्टे मीठे कड़वे नमकीन हर प्रकार के स्वाद की जरूरत होती है ठीक उसी प्रकार संपूर्ण व्यक्तित्व विकास के लिए जिंदगी में खट्टे मीठे टी के कड़वे हर प्रकार के अनुभव की आवश्यकता होती है कहने का अर्थ यह है कि जीवन में पूर्णता प्राप्त करने के लिए समय-समय पर अलग-अलग घटनाओं का होना आवश्यक है मैं तो यहां तक  कहूंगा परम आवश्यक है.

प्रकृति में मौसम लोग घटनाएं ऐसा कहूं देखने वाली हर चीज हर पल बदल रही है इस बदलाव में इंसान की कोई न कोई आवश्यकता पूरी हो रही है परंतु और ज्ञान या जानकारी के अभाव में इंसान यह जान नहीं पाता की उससे उसे किस चीज की आवश्यकता है उसे समझ मिल जाए तो उसकी सारी शिकायतें अपने आप ही समाप्त हो जाती है.

उदहारण के लिए मान लीजिए इस वक्त आपकी जेब में ₹1000 हैं तो इसका मतलब यह हुआ कि आपकी इस पल आपकी  जरूरत ₹1000 है अगले पलिया आवश्यकता बदलकर ₹2000 में परिवर्तित हो सकती है परंतु इस पल जितनी जरूरत है उतने पैसे पहले से आपके पास है इस पल आपको जितनी हवा रोशनी इत्यादि जो भी चीजें चाहिए उतनी आपको मिल रही है जितना खाना मिलना चाहिए उतना मिल रहा है इस समय से देखेंगे तो पता चलेगा उस समय कि आपकी सभी जरूरतें अच्छी तरह से पूरी हो रही है मगर मन को ज्ञान ना होने के कारण वह हमेशा असंतुष्ट करता है कि मुझे यह चीज कम मिली या नहीं मिला या सामने वाले से ज्यादा मिल जाए ऐसे विचार व्यक्ति को लगातार परेशान करते हैं जिस कारण वह दुखी होते रहता है.

 अतः यह मेरी इस समय की जरूरत है इस पंक्ति को मजबूरी में नहीं बल्कि उसके पीछे कि समझ को जानकर कहें हो सकता है अगले पल वह बदल जाए

 यकीन करिए जो कुछ भी हो रहा है यह मेरी एसएन की जरूरत है इस समय के साथ जीवन की प्रत्येक घटना व्यक्ति को ना सिर्फ स्वीकार करनी होगी बल्कि धीरे-धीरे उसे पसंद भी आने लगेगी

 जैसे इस समय आप एक कमरे में मान लीजिए आराम से बैठे हैं आपके मन में कोई भी विचार नहीं आ रहा फिर अचानक से एक विचार आपके मस्तिष्क में आता है क्या बहुत ज्यादा गर्मी है इतना छोटा कमरा नहीं होना चाहिए तब क्या होगा सीधी सी बात है दुख होगा उस समय आप स्वयं को बताएं कि यह कमरा ऐसा है क्योंकि इसे ऐसा ही होना चाहिए तो आप पुनः शांत अवस्था में पहुंच जाएंगे  अर्थात अचानक से दुख गायब हो जाता है कहने का मतलब यह है कि जैसे ही आप किसी घटना को  अस्वीकार कर लेते हैं तो दुख शुरू होता है अन्यथा दो को स्वीकार करते ही दुख विलीन होने लगता है समझिए ऐसा क्यों होता है

इसे आप इस प्रकार भी समझ सकते हैं कि जब कोई अस्वस्थ व्यक्ति डॉक्टर से इंजेक्शन लगवाने जाता है तो वह अपनी सांस रोक लेता है जबकि विज्ञान यह कहती है कि यदि इंजेक्शन की सुई शरीर के अंदर प्रवेश कर रही हो तो आप अपनी स्वास को अंदर ले यह स्वीकार करने का प्रतीक है स्वीकार करने से दर्द कम होता है.

अस्वीकार करने से बढ़ेगा इसलिए  लोग और घटनाओं को वे जिस तरह के हैं उसी तरह से स्वीकार करें ऊपर दी गई बात को अगर कुछ ही शब्दों में या निष्कर्ष रूप में पंक्ति बंद करना हो तो वह यह होगी कि ""स्वीकार सुख  है अस्वीकार दुख""" है

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

अपनी मूल्यवान राय दे