100- 200 Words Hindi Essays 2021, Notes, Articles, Debates, Paragraphs & Speech Short Nibandh Wikipedia

खुद पर निबंध Essay on Myself in Hindi

खुद पर निबंध Essay on Myself in Hindi

 प्रस्तावना

प्रत्येक व्यक्ति अपने आप को बड़ा बनाना चाहता है। हर मनुष्य अपने आप मे खास होता है। जब हम किसी से पहली बार मिलते है तो अक्सर अपना परिचय पूछा जाता है अक्सर स्कूल-कॉलेज का पहला दिन हो। अपने बारे मे कोन नहीं जनता सब अपने बारे मे जानते है पर अपने बारे लिखना मुश्किल होता है।  

मै कौन हूँ? 

मेरा नाम दुदाराम है। मेरा उपनाम दा है मेरे घर मे मुझे दा के नाम से बुलाया जाता है। आमतौर मेरे दादा-दादी मुझे मेरे उपनाम से ही बुलाते हैं। मेरे परिवार वाले मेरी बहुत फिकर करते है। वो मुझे आसान तथा प्राणायाम कराते है। ओर दौड़ करने के लिए कहते है। और सुबह फल खिलाते है।

सुबह उठकर स्नान करके विद्यालय जाता हूँ। और विद्यालय जाकर अच्छी पढ़ाई करता हूँ। मेरी लिखावट बहुत अच्छी है। मेरे शिक्षक मुझसे प्यार करते है।  मेरा परिवार बहुत बड़ा है जिसमे मेरे दादा-दादी,माता-पिता,चाचा-चाची,ताऊ-ताई और मेरे भाई बहन हम सब एक साथ रहते है।सभी मुझसे प्यार करते है। 

परिचय

 मैं राजकीय आदर्श उच्च मध्यमिक विद्यालय होडू मे कक्षा 9 मे पढ़ता हूँ।मेरी आयु 13 वर्ष है। मै मेरे माता-पिता के साथ होडू मे रहता हूँ।  मेरे पिता का नाम वेहनाराम तथा माता का नाम रंभा देवी है वे दोनों मुझसे बहुत प्यार करते है। मै मेरे दादा-दादी के साथ घर पर रहता हूँ। मुझे यात्रा करना बहुत पसंद करता हूँ। मै एक अच्छा विद्यार्थी हूँ। मेरा स्कूल बहुत अच्छा है उसमे दो बगीचे है। मेरा विद्यालय स्वस्थ, प्यारा और शांतिपूर्ण है। मै बड़ो का आदर करता हूँ। मेरी रुचि खेलने की ज्यादा है मै क्रिकेट का अच्छा खिलाड़ी हूँ। बाकि खेल भी मे खेलता हूँ। जैसे-कबड्डी,खो-खो,फुटबाल तथा फोन मे भी गेम खेलता हूँ।

मेरी पहचान

हर व्यक्ति की अपनी-अपनी अलग पहचान होती है। मै एक विद्यार्थी हूँ। मै राजकीय विद्यालय मे अध्ययन करता हूँ। मै मेरी कक्षा का सबसे श्रेष्ठ विद्यार्थी हूँ।

रुचियां

मेरा पढ़ाई से ज्यादा खैलने मे मन लगता है मै हर खेल खेल सकता हूँ और ज़्यादातर खेलो मे अच्छा खिलाड़ी हूँ। क्रिकेट मेरा प्रिय खेल है।मै ज़्यादातर क्रिकेट ही खेलता हूँ। 

मै हर समय बड़ो का आदर करता हूँ। मेरे अध्यापको तथा अभिभावकों निर्देशों का पालन तथा उनका सम्मान करता हूँ। सभी मुझसे प्यार करते है। मनोज मेरा अच्छा दोस्त है। जिसकी मै हर तरह से उसकी सहायता करता हूँ। वह मेरा सहपाठी तथा पड़ोसी होने के कारण हम दोनों एक साथ विद्यालय जाते तथा आते है। मुझे कितबे पढ़ना तथा जोक पढ़ना अच्छा लगता है। मै लोगो की मदद करके खुद को भाग्यशालि समझता हूँ।    

मेरी क्षमताएं 

मै एक बालक होते हुए भी मुझमे कई क्षमताएं विद्यमान है। मै सुबह जल्दी उठता हूँ। तथा व्यायाम करता हूँ।, फिर स्नान करके, खाना खाकर, विद्यालय जाता हूँ, तथा विद्यालय मे बहुत अच्छी पढ़ाई करता हूँ। जब मुझे समय मिलता है। तब मै लेख भी लिखता हूँ। ये मेरे लिए नित्य कर्म है। ये कार्य मे हर रोज करता हूँ। 

मेरा पसंदीदा विषय 

मेरी पसंदीदा विषय विज्ञान है जिसे मे दिन मे 8 घंटे पढ़ता हूँ। विज्ञान मे सबसे श्रेष्ठ हूँ। मै रोज घर तथा विद्यालय की साफ-सफाई रखता हूँ। मै अच्छा सिंगर भी हूँ।मै हर वार्षिक उत्सव मे भाग लेता हूँ। अच्छा गीत गाता हूँ। सभी मेरे द्वारा गाये गए गीत को अच्छे से सुनते है। मै हमेशा मज़ाक किया करता रहता हूँ। मेरे दोस्त मुझसे बहुत प्यार करते है। मै सभी को पसंद आता हूँ। हम कई अभियानो का शुभारंभ भी करते है। 

निष्कर्ष 

मै खुद को भाग्यशाली समझता हूँ। मेरे जीवन मे हर चीज की सुविधा है। मेरे लिए ये एक सपने के शाकार होने से कम नहीं है। मेरा परिवार इतना अच्छा है। जितना की स्वर्ग होता है। मे उम्मीद करता हूँ। कि आप सभी के परिवार भी बहूत अच्छे हो। 


आग्रह 

आज का हमारा लेख- खुद पर निबंध Essay on Myself in Hindi आपको कैसा लगा? कमेन्ट मे अपनी राय जरूर दें। जिससे हम अगले लेख मे और भी सुधार कर सकें। यदि आपको अच्छा लगा हो तो इसे अपने दोस्तो के साथ शेयर करे। ताकि वो भी इस लेख का उपयोग करके प्रतियोगी परीक्षाओ मे सफल हो सकें।