100- 200 Words Hindi Essays 2021, Notes, Articles, Debates, Paragraphs & Speech Short Nibandh Wikipedia

कोरोना वायरस पर निबंध हिन्दी में Essay On Coronavirus In Hindi

कोरोना वायरस पर निबंध हिन्दी में Essay On Coronavirus In Hindi में हम वैश्विक महामारी कोविड 19 पर स्कूल स्टूडेंट्स के लिए सरल भाषा में निबंध एस्से स्पीच अनुच्छेद पैराग्राफ उपलब्ध करवा रहे हैं. विभिन्न शब्द सीमा में दिए गये ये निबंध आपकों पसंद आएगे ऐसा हमें विश्वास हैं.

Essay On Coronavirus In Hindi कोरोना वायरस पर निबंध

Essay On Coronavirus In Hindi कोरोना वायरस पर निबंध

Hello Here We Start Coronavirus Short Essay With 10 Line About This Essay Topic In hindi, In Next Section We Read Essay About Coronavirus In 100, 200, 250, 3000, 400, 500 words For Class 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, and 10th std Students & Kids.

कोरोना पर 10 वाक्य 10 Line On Coronavirus In Hindi

वर्ष 2019 में चीन के वुहान शहर से कोविड की शुरुआत हुई.

साल 2020 में विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना को वैश्विक महामारी का दर्जा दिया हैं.

अब तक कोविड के चलते लाखों लोग अपनी जान गंवा चुके है तथा लाखों जिंदगियां मौत से लड़ रही हैं.

कोरोना प्रभावित देशों में अमेरिका, ब्राजील, भारत, इटली, स्पेन, फ़्रांस, रूस और इंग्लैंड मुख्य हैं.

इस वैश्विक महामारी की मार इतनी गहरी है कि समस्त चिकित्सा व्यवस्था चरमरा गई हैं.

ग्रामीण क्षेत्रों की तुलना में बीमारी का प्रकोप शहरी क्षेत्रों में अधिक हैं.

अभी तक वैज्ञानिक इस बीमारी की दवाई ढूढने में सफल नहीं हुए हैं, वैक्सीन इसके संक्रमण को रोकने में कारगर हथियार साबित हो रही हैं.

विश्व की एक बड़ी आबादी कोरोना से जूझ रही हैं. लगभग सभी देशों की अर्थव्यवस्था पूरी तरह चरमरा गई हैं.

कई देश अपने लोगों को महामारी से बचाने के लिए टीकाकरण, लॉकडाउन और मास्क पहनने पर जोर दे रहे हैं.

Corona virus Par Nibandh Hindi Me

कोरोना वायरस पर निबंध हिन्दी में Essay On Coronavirus In Hindi

प्रस्तावना 
कोरोना वायरस का आकार तो बहुत-ही सूक्ष्म है। परंतु इस सूक्ष्म से वायरस के प्रभाव ने भारत ही नहीं बल्कि पूरे विश्व को हिला कर रख दिया है।

जब {who} ने इसे एक महामारी के रूप मे घोषित कर दिया था। ये वायरस जितना सूक्ष्म है। जितना ही ज्यादा प्रभावी है। इस वायरस का प्रभाव पूरे विश्व पर देखा जा सकता है। ये आग की तरह पूरे विश्व मे फैल गया है। 

कोरोना की उत्पति 

कोरोना नमक वायरस प्रथम बार 1930 मे मुर्गी मे पाया गया था। इससे उस को श्वास लेने मे कठिनाई आई। 1940 तक ये वायरस अन्य जानवरो मे फैल गया और 1960 मे ये एक व्यक्ति को भी हो गया था।

इसके बाद 2019 मे ये वायरस चीन मे आया और इस बार ये वायरस चमगादड़ के माध्यम फैला और सम्पूर्ण विश्व इसकी चपेट मे आ गया। ये वायरस 2019 मे आया इसलिए इसका नाम कोविड-19 रखा गया था।कोरोना वायरस क्या है?

कोरोना वायरस एक बहुत-ही बड़ी महामारी है। जिसकी छपेट मे पूरा विश्व आ चुका है। इस वायरस को पहली बार दिसंबर 2019 मे चीन के वुहान जिले मे देखा गया था।

इसलिए इस वायरस का नाम {covid-19} रखा गया था। इस वायरस का प्रमुख भागीदार चीन को माना जा रहा है।  {who} संगठन के अनुसार इस वायरस के लक्षण- बुखार, खांसी, सांस लेने में तकलीफ, नाक बहना तथा गले में खराश इसके मुख्य लक्षण है।

अभी तक इस वायरस की कोई भी वैक्सीन नहीं बनी है। ये एक संक्रमित रोग है। ये एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति मे प्रवेश करता है। ये वायरस खांसी और छींक के माध्यम से फैलता है।

कोरोना वायरस को चीन ने काफी समय तक नहीं फैलने दिया। परंतु इस वायरस को नष्ट नहीं कर पाये। जिस वजह से ये वायरस अन्य देशो मे भी फैल गया।

चीन ने इस वायरस को अन्य देशो से छुपाया जिस वजह से आज पूरा विश्व इस महामारी मे उलज गया है। ये वायरस इतना खतरनाक है। जिसका टीका पूरे विश्व के वैज्ञानिक नहीं ढूंढ पा रहे है। 

लॉकडाउन 

वर्तमान मे विश्वभर मे एक बहुत ही बड़ी महामारी ने हमला कर दिया है। इस महामारी का नाम है। कोरोना महामारी। इससे बचने के लिए भारत तथा अन्य कई देशो मे लॉकडाउन लगाया गया है।

आपातकालीन स्थिति को लॉकडाउन कहते है। इसका सीधा अर्थ होता है। तालाबंदी। इस स्थिति मे घर सी बाहर नहीं जाने दिया जाता है। जब लॉकडाउन बड़े स्तर मे बढ़ जाता है। तो ये कर्फ्यू का रूप उत्पन कर लेता है।

भारत मे लॉकडाउन 24 मार्च 2020 को लागू कर दिया गया था। भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदीजी का ये एक ऐतिहासिक कदम माना जा रहा है। मोदीजी का ये कदम देश के लिए वरदान साबित हुआ।

देश के नागरिकों के स्वास्थ्य को नगर मे रखते हुए पूरे देश पूर्ण रूप से लॉकडाउन लगाया गया है। ये हमारे इतिहास मे पहली बार हुआ है।

क्या हैं इस बीमारी के लक्षण?

कोविड19 / कोरोना वायरस में पहले बुख़ार होता है। इसके कुछ दिन बाद सूखी खांसी होती है। तथा हफ्ते भर बाद मे श्वास लेने मे कठिनाई होती है। ये इस वायरस के प्रमुख लक्षण है

बुखार, खांसी, सांस लेने में तकलीफ, नाक बहना तथा गले में खराश आदि। ज़्यादातर संक्रमित लोगो मे ये लक्षण पाये जाते है। इन लक्षणो का सीधा मतलब है। कोरोना का संक्रमण.

इस रोग के होने पर कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है। इससे व्यक्ति की मौत भी हो सकती है। इस वायरस के लक्षण स्वाइन फ्लू से मिलते-झूलते है.

इसलिए हर महीने अपनी कोरोना सेस्टिंग करायेँ। यदि किसी बूढ़े-बुजुर्ग को ये रोग हो गया है। तो उनके बचने के बहुत-ही कम सांस होते है

कोरोना वायरस का संक्रमण हो जाए तब?

वर्तमान समय मे भारत के पास कोरोना की वैक्सीन की उपलब्ध नहीं है। इस रोग से संक्रमित लोगो को अस्पताल मे भर्ती किया जाता है। तथा उन्हे नियमित दवाईया खिलाई जाती है।

जिससे बिना वैक्सीन के 85 फीसदी लोग स्वस्थ हो रहे है। इसलिए यदि कोई कोरोना संक्रमित व्यक्ति है। तो उन्हे बिना घबराये अस्पताल जाकर अपना इलाज करना चाहिए.

जब तक आप स्वस्थ न हो तब तक दूसरे लोगो से अलग रहें। जिससे ये रोग किसी और को न हो। भारत तथा विश्व के सभी वैज्ञानिक वैक्सीन की खोज मे लगे हुए है।
क्या हैं इससे बचाव के उपाय?

कोरोना वायरस पूरी दुनिया मे बहुत तेजी से फैल रहा है। इससे हमारा बचाव करने के लिए स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने गाइड-लाइन जारी की है। हमे इसके निर्देशों का पालन करना चाहिए।

कोरोना काल मे कोरोना संक्रमित क्षेत्र मे न जाए।, हर किसी भी अनदेखी वस्तु को नहीं छूए।, घर से बाहर तब ही निकले जब काम बहुत-ही जरूरी हो।, 

सुबह पानी को उबालकर सेवन करें।, हाथ को मुंह या नाक पर नहीं लगाए।,सेनेटाइजर का लगातार प्रयोग करें।,  हर एक घंटे के बाद या शहर जाने के बाद तो हाथ को आवश्य ही धोना चाहिए।  तथा जब भी घर से बाहर निकले तो मुंह पर मास्क लगाकर ही निकले।

हर व्यक्ति से एक 2 गज की दूरी बनाए रखे खासकर खाँसते तथा सींकते वक्त पास मे नहीं बैठना चाहिए। इस कोरोना काल मे मांस, अंडे तथा अन्य मासाहारी वस्तुओ का सेवन न करें।

बाजार से हरी सब्जियों को पानी उबालकर 2 बार धोए जिससे इसके कीटाणु मर जाए। तथा हमारा संकट दूर हो जाए। हमे सरकार के निर्देशों के अनुसार चलकर कोरोना महामारी को हराना है।

कोरोना वायरस पर निबंध हिन्दी में Essay On Corona virus& Covid-19 In Hindi

वर्तमान में हमारे विश्व पर एक बहुत ही बड़ी महामारी का  संकट मंडरा गया है जिसकी कोई दवाई भी नहीं है एक बीमार ही नहीं बहुत बड़ी महामारी है.

इससे हमारा देश ही नहीं पूरा विश्व जूझ रहा है इस महामारी मैं आज विकराल रूप धारण कर लिया है और जिससे लाखों लोगों ने अपनी जान गवा दी है.

और अनगिनत संख्या में लोग अभी भी संक्रमित हैं इस महामारी से बचने के लिए संपूर्ण विश्व में  जनता कर्फ्यू लगाया गया है और सभी नागरिकों को घर में रहने का अनुरोध किया जा रहा है।
कोरोना वायरस पर निबंध हिन्दी में Essay On Covid19 in hindi
प्राण धात रोग कोरोना एक वायरस जनित रोग है जिसने अपने प्रभाव से आज एक महामारी का रूप ले लिया है। यह महामारी पूरे विश्व में फैल गई है.

और इस ने विकराल रूप धारण कर लिया है इसको रोक पाना अब नामुमकिन के बराबर हो गया है इसलिए सरकार ने इस महामारी से नागरिकों को बचाने के लिए देश में संपूर्ण रुप से लॉकडाउन घोषित कर दिया.

कोरोना नामक इस महामारी की उत्पत्ति सर्वप्रथम मुर्गी में 1940 में पाई गई थी इसके  बाद 1960 तक यह बीमारी एक व्यक्ति तक पहुंच गई बाद में सन 2019 में इस बीमारी ने महामारी का रूप लेकर चीन के वुहान प्रांत के सीफ़ूड और पोल्ट्री बाजार में प्रवेश और आग की तरह पूरे विश्व में फैल गई।

कोरोना वायरस शरीर में प्रवेश करने पर हमें मामूली जुकाम होगा. जैसे-जैसे ये हमारे शरीर में फैलेगा वैसे-वैसे ये घातक होते जायेगा. और अंत में ये मानव के स्वसनतंत्र को प्रभावित करता है. जिससे श्वान लेने में तकलीफ के कारण लोगो की मौत हो जाती है.

इस बीमारी का नाम Corona Disease है. जो कि हमारे इस बार 2019 में आई थी. इसलिए इसे covid-19 कहते है. ये बीमारी बढ़ती ही जा रही है. रुकने का नाम ही नहीं ले रही है.

आज तक इस बीमारी से करोडो लोग संक्रमित हो चुके है. और लाखो की संख्या में लोग इस महामारी की वजह से जान गँवा चुके है.

कोरोना वायरस की शुरुआत वुहान शहर से हुई जो कि चीन में स्थित है. शुरुआत में चीन ने इस वायरस को छुपाकर रखा पर चीन इस पर नियंत्रण नहीं कर सकी और ये कुछ ही दिनों में चीन सहित 70 से ज्यादा देशो में फ़ैल गया.

इसके बाद चीनी सरकार ने सफाई लगाते हुए. अपने वुहान सिटी से लेन-देन बंद कर दी. पर अब तक वायरस पुरे विश्व में फ़ैल चूका था. 

कोरोना वायरस से पीड़ित लोगो के लक्षण

  • तेज बुखार 
  • लगातार खांसी
  • शरीर में थकान
  • बेचैनी
  • श्वास लेने में तकलीफ
  • नाक का बहना
  • गले में दर्द

कई लोगो में इस वायरस के लक्षण दिखाई भी नहीं देते है. जिस कारण इस वायरस का फैलाना और भी तेज हो रहा है. एक अच्छी बात ये है. कि खास वैक्सीन नहीं बनने पर भी आज 85 फीसदी लोग ठीक हो रहे है.

Essay On Covid19 In Hindi कोविड-19 पर निबंध

क्या है भारत  मे कोरोना वायरस का हाल ?

कोरोना वायरस चीन में दिसम्बर 2019 को प्रवेश किया पर ये वायरस भारत में मार्च 2020 में आया. भारत में शुरुआत में वायरस ज्यादा तेजी से नहीं फैला पर जब फैलना लगा भारतीय सरकार ने 22 मार्च को पुरे देश में 144 धारा के तहत जनता कर्फ्यू लगा दिया.

कोरोना वायरस पर निबंध हिन्दी में Essay On Coronavirus In Hindi

जनता कर्फ्यू से सम्बंधित यहाँ दो महत्वपूर्ण प्रश्न बन रहे है.

1.भारत में जनता कर्फ्यू कब लगाया गया?

भारत में ''22 मार्च 2020'' को जनता कर्फ्यू लगाया गया था.

2.भारत में किस धारा के तहत जनता कर्फ्यू लगाया जाता है?

भारत में ''धारा 144'' के तहत जनता कर्फ्यू लगाया जाता है. 

क्या कोई वैक्सीन कोरोना वायरस का इलाज कर सकती  है ?
अभी तक हमारे देश में कोई विशिष्ट वैक्सीन का निर्माण नहीं हुआ है. पर वैज्ञानिको के प्रयास के बाद काफी प्रभावशाली वैक्सीन का निर्माण किया है.

हम पूर्ण रूप से अभी तक नहीं कह सकते कि आप कोरोना से संक्रमित होने पर भी वैक्सीन से ठीक हो सकते हो. वैक्सीन लगाने के बाद भी कोरोना से संक्रमित हो सकते है.

पर वैक्सीन लगाने के बाद व्यक्ति को कोरोना हो जाता है. तो भी वह व्यक्ति जिन्दा रह जायेगा. वैक्सीन से जान बचा सकेगा. हमारे लिए तथा हमारे देश के लिए एक-एक व्यक्ति की जान महत्वपूर्ण है. इसलिए आप भी जरुर जाए और वैक्सीन लगवाये.

अगर में कोरोना संक्रमित हूँ, तो क्या करना चाहिए?
यदि आपने कोरोना टेस्ट करवाया और आप कोरोना संक्रमित हो यानि रिपोर्ट कोरोना पोजिटिव है. तो आपको घबराने की कोई जरुरत नहीं है. इस समय में आपको खुद पर सयम रखकर खुद को क्वारंटाइन रखना चाहिए. 

क्वारंटाइन का अर्थ है. हमें किसी भी व्यक्ति के सम्पर्क में नहीं जाना है. किसी खुले कमरे में अकेला ही रहना है. जन्हा पर हर वस्तु की व्यवस्था हो. पर खुद को इस समय अकेला रहना पड़ेगा.

संक्रमित होने पर हमें लगातार 15 दिन तक अपने परिवार जन या किसी अन्य व्यक्ति के संपर्क में नहीं आना है. जिससे कोरोना किसी अन्य को न हो सके. और कोरोना के फैलाव को हम खुद को क्वारंटाइन कर रोक सकते है.

क्या मास्क पहन्ना आपको संक्रमित होने से बचा सकता है ?
हमारे देश में कोरोना से बचने के लिए जनता कर्फ्यू लगाया गया है. पर साथ ही मास्क लगाना भी अनिवार्य किया गया है. पर लोगो के मन में एक सवाल बनता है. कि क्या मास्क लगाने से हम कोरोना संक्रमण होने से बच सकते है.

हम पूर्ण रूप से नहीं कह सकते है. कि हम मास्क से कोरोना संक्रमित से बच सकते है. पर इसके लिए हमें सभी नियमो का पालन भी करना होगा. क्योकि हम 24 घंटे तक मास्क नहीं लगा सकते है. इसलिए सभी नियमो को फोलो करो और खुद को सुरक्षित बनाओ.

नरेन्द्र मोदी ने कोरोना के हालातो को देखते हुए सभी नागरिको को खुद जिम्मेदारी देने के लिए एक ट्विट कर लिख तथा मन की बात में सभी को जिम्मेदारी सौपीं.
कोरोना वायरस पर निबंध Pm Modi Tweet
ये भी पढ़े
प्रिय दर्शको आज का हमारा लेख कोरोना वायरस पर निबंध हिन्दी में Essay On Coronavirus In Hindi &Covid19 essay in hindi आपको कैसा लगा अपनी राय जरूर दें। उम्मीद करता हूँ। कि आपको अच्छा लगा होगा। यदि आपको अच्छा लगा हो तो इसे अपने दोस्तो के साथ शेयर करें।