100- 200 Words Hindi Essays 2022, Notes, Articles, Debates, Paragraphs & Speech Short Nibandh Wikipedia

यदि मै नेता होता निबंध Essay On If I Were A Leader In Hindi

यदि मै नेता होता निबंध-हमारे दिमाग की अद्भुत शक्ति कल्पना शक्ति है। हम जीवन भर कल्पनाओं में डूबे रहते हैं। सोचते हैं अगर मैं ऐसा होता तो क्या करता और वैसा होता तो क्या-क्या करता। कल्पना शक्ति सर्जनशीलता का आधार स्तंभ है। क्योंकि आज तक विज्ञान के सभी अविष्कारों में कल्पना शक्ति का महत्वपूर्ण योगदान है।


राजनेता अथवा नेता समाज का चर्चित तथा सम्माननीय शब्द है। आजकल हर कोई नेता बनना चाहता है। नेता शब्द की अहमियत का अंदाजा आप इस बात से लगा सकते हैं कि यह शब्द जिस व्यक्ति के साथ जुड़ जाता है उसकी पहचान व्यक्तिगत से ज्यादा नेता के रूप में हो जाती हैं।

यदि मै नेता होता निबंध Essay On If I Were A Leader In Hindi

यदि मै नेता होता निबंध Essay On If I Were A Leader In Hindi

नेता राजनीतिक पार्टियों के साथ-साथ संगठनों में भी होते हैं। प्रत्येक संगठन का संचालन लीडर के द्वारा किया जाता है। राजनीतिक दलों में भी कई प्रकार के नेता होते हैं। कोई राज्य स्तर का होता है तो कोई स्थानीय।


वर्तमान समय  की लोकतांत्रिक व्यवस्था में प्रत्येक कार्य को नेता प्रभावित करते हैं। यहां तक कि छोटे से छोटा वह बड़े से बड़ा काम नेताओं के हस्तक्षेप से होते देखे जा सकते हैं।


यदि मैं नेता होता तो मैं अपने देश और समाज के लिए हर समय उनसे जुड़ा रहता उनकी हर सुख दुख में उनके साथ खड़ा रहता समाज सेवा के बेहतर से बेहतर नियम बना था। मैं देश का सबसे श्रेष्ठ नेता बनकर जनता की सेवा करता।


गरीब तथा असहाय वर्ग के लोगों की सहायता करता सभी को समान अवसर प्राप्त कराने के लिए प्रयत्न करता मैं अपनी ईमानदारी और सत्यनिष्ठा के बल पर सभी को प्रेरित करता। लोगों के साथ हो रहे अन्याय में उनके साथ खड़ा रहकर आंदोलनों का नेतृत्व कर  न्याय दिलाता।


मैं अपने शासनकाल में अपने शहर  का विकास करवाता जो जनता चाहती वह  कार्य करता तथा जनता का लोकप्रिय बन जाता और मेरे आसपास के क्षेत्रों के नेताओं को भी विकास के लिए प्रेरित करता तथा देश के विकास में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता।


यदि मैं नेता होता तो हर समय जनता के पक्ष में रहकर उनको न्याय दिलाता तथा जनता के लिए हर समय किसी भी परिस्थिति में जनता का सहयोग करने के लिए तैयार रहता तथा सभी को इसी सिद्धांत के साथ देश का विकास और गरीबों की सहायता का संदेश देता।


आज के समय में  लोगों के सामने जब भी नेता का नाम आता है जब एक ही आवाज उठती है भ्रष्टाचार भ्रष्ट नेता आदि यदि मैं नेता होता तो लोगों के मन से इस प्रकार की आवाजों को दूर करने का प्रयास करता जो आज तक नेताओं ने अपने पद को अपने स्वार्थों के लिए रखा उनके पदों को जड़ों से उखाड़ कर  फेंकता इस प्रकार में नेताओं की छवि बदलने का प्रयास करता और जनता के मन में नेताओं  की जगह  बनाता।


यदि मैं नेता होता तो खुद से भी ज्यादा जनता की सहायता करना और अपना संपूर्ण जीवन तन मन जनता के लिए समर्पण कर देता निस्वार्थ भाव तथा ईमानदारी और सत्यनिष्ठा के साथ जनता के साथ हरदम खड़ा रहता।


यदि मैं नेता होता तो मेरे शहर का संपूर्ण वातावरण स्वच्छ रखता और लोगों को अपने अपने घरों के आसपास साफ-सफाई करने के लिए कहता और इस प्रकार सभी लोगों  की सहायता से मेरे पूरे शहर को साफ तथा सुंदर बनाता। आने वाले हर बात के वार्षिक उत्सव पर शहर के सभी नागरिकों को एक एक पौधा लगाने को प्रेरित करता तथा उन पौधों की सुरक्षा का जिम्मा उन लोगों को सौंपता और पौधों की  कीटनाशकों से सुरक्षा के लिए मैं अपनी तरफ से सभी को दवाइयां देता।


यदि मैं नेता होता तो हमारे देश में जो भी नया नियम बनाया जाता या फिर किसी नई योजना को लागू किया गया तो मैं अपने सभी शहरी लोगों को बुलाकर एक बैठक  मैं सभी को उस नियम के बारे में बताता और उनका लाभ उठाने के लिए प्रेरित करता।


यदि मैं नेता होता तो मेरे शहर के सभी लोगों को आवास टांका तथा शौचालय  बनवाने के लिए प्रेरित करता और जिन्होंने नहीं बनाए हैं उन्हें इसके बारे में समझा बुझाकर किसी तरह से बनवाने के लिए प्रेरित करता।


यदि मैं नेता होता तो मेरे शहर में जल संरक्षण,वायु संरक्षण तथा पर्यावरण संरक्षण को बढ़ावा देता और इसके लिए सख्त से सख्त नियम बनाकर सभी को इसकी पालना करवाता।


यदि मैं नेता होता तो  गंदगी को दूर भगाता और स्वच्छता को बढ़ावा देता। और छोटे बड़े गांवों और शहरों में प्लास्टिक  के बैग को बंद कर देता और इस प्रकार में पर्यावरण प्रदूषण को बचाने मैं अपना सहयोग देता।


यदि मैं नेता होता तो जगह जगह पर विद्यालयों का निर्माण करवाता और उनमें निशुल्क  तथा उच्च शिक्षा का प्रावधान करवाता। यदि मैं नेता होता तो सभी के घरों में जल की आपूर्ति करता और वह जगह  जहां पर पानी की व्यवस्था नहीं है वहां पर प्याऊ बनाकर जल की व्यवस्था करता।


यदि मैं नेता होता तो जंगली जानवरों की सुरक्षा करवाता और  उनके लिए भोजन का प्रावधान करवाता। और जंगल में प्रदूषित नदियों को फिल्टर के माध्यम से स्वच्छ करवाता और बांध के माध्यम से जंगलों में जल की आपूर्ति क


यदि मैं नेता होता तो जंगल काटने पर प्रतिबंध लगा देता और जो भी पेड़ पौधों को काटता उन पर सजा का प्रावधान करवाता। यदि मैं नेता होता तो मेरे शहर में देवी देवताओं के मंदिर बनाता और पुरानी प्रथाएं जैसे पर्दा प्रथा,दहेज प्रथा तथा बाल विवाह आदि पर  रोक लगवाता।


समाज में होने वाले सभी भेदभाव को दूर करता और हिंदू,मुस्लिम,सिख,ईसाई,बौद्ध,जैन तथा अन्य सभी धर्मों एक मानकर सभी को समान अवसर प्राप्त करवाता और समाज में हो रही सामाजिक भेदभाव को दूर करने का प्रयास करता।


मैं अपने जीवन में अरे समय जनता की सेवा करता जिससे मुझे लोग कई पीढ़ियों तक अपनी ईमानदारी और समाज सेवा के लिए याद करते हैं जैसे हम आज नेताजी सुभाष चंद्र बोस जवाहरलाल नेहरू महात्मा गांधी आदि को याद करते हैं। समाज सेवा को ही मैं अपने जीवन का मोक्ष मानता हूं। जनसेवा के लिए मैं अपना तन मन धन अर्पित कर देना चाहता हूं।


उम्मीद करता हूं दोस्तों आज का हमारा आर्टिकल यदि मैं नेता होता Essay On If I Were A Leader In Hindi आपको पसंद आया होगा यदि लेक अच्छा लगा है तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें।