100- 200 Words Hindi Essays, Notes, Articles, Debates, Paragraphs & Speech

वनों की कटाई पर भाषण Speech on deforestation in hindi

वनों की कटाई पर भाषण Speech on deforestation in Hindi: नमस्कार दोस्तों आपका स्वागत है आज  के निबंध भाषण अनुच्छेद में हम वनों की कटाई (deforestation) पर शोर्ट स्पीच स्टूडेंट्स के लिए बता रहे हैं. क्लास 1,2,3,4,5,6,7,8,9,10 के लिए यहाँ सरल भाषा में निबंध मिलेगा.

Speech on deforestation in hindi

सभी को नमस्कार और प्रणाम, आज हमारी दुनिया ग्लोबल वार्मिंग को लेकर बेहद चिंतित नजर आती हैं ऐसे में आज के कार्यक्रम में मुझे वनों की कटाई के ज्वलंत मुद्दे पर बोलने का अवसर दिया, इसके लिए आयोजकों का आभार प्रकट करता हैं.

जिस तेजी से आज वनों की कटाई की जा रही है उसका परिणाम हम आए दिन विविध रूपों में भुगत रहे हैं जैसे कभी अकाल, अधिक गर्मी तो कहीं बाढ़ के हालात. दिल्ली जैसे शहरों में अब तो मास्क लगाएं बिना बाहर निकलना भी मुश्किल हो गया हैं. इन समस्त क्रियाकलापों का जब हम मूल कारण खोजते है तो हमें पर्यावरण का मानव द्वारा अति दोहन हैं जिसमें अवैध रूप से वनों की कटाई भी शामिल हैं.

जिस तेजी से संसार की जनसंख्या बढ़ रही हैं इस कारण लोगों की मूलभूत आवश्यकताओं यथा आवास,ईधन आदि के लिए जंगलों को काटा जा रहा हैं. जिसका प्रत्यक्ष दुष्परिणाम समूची मानव जाति और जीव जगत को भुगतना पड़ रहा हैं. 

वनों की कटाई का बड़ा कारण घरेलू ईधन के लिए लकड़ी भी हैं. इसके अलावा कुछ उद्योगपति जंगल के आस पास बसने वाले लोगों को धन का लालच देकर अपने औद्योगिक फायदे के लिए वनों की कटाई करवा लेते हैं. आगे जाकर इनका उपयोग फर्नीचर बनाने आदि में काम में लिया जाता हैं.

यदि आज भी हम नहीं सभले तथा अनियंत्रित वनों की कटाई को नहीं रोका, तो वह दिन दूर नहीं होगा जब हमारी पृथ्वी पर हरी घास का एक तिनका भी नहीं होगा. पेड़ न केवल हमें ऑक्सीजन, छाया, फल, फूल और दवाइयां देते हैं बल्कि ये जीवन के आधार हैं इनके कारण ही वर्षा होती है तथा जमीन पर खेती हो पाती है जिससे हमारा पेट भरता हैं. यदि पेड़ ही नहीं रहेगे तो हमें भूखा प्यासा मरना पड़ेगा.

पेड़ों की कटाई को रोकने के लिए जनता और शासन को मिलकर कड़े कदम उठाने होंगे. सरकार अपने स्तर पर वनों की कटाई करने वालों के लिए कठोर सजा का प्रावधान करे. आमजन को नयें पेड़ लगाने तथा वनों के संरक्षण के लिए प्रोत्साहित किये जाने की आवश्यकता हैं.

एक क्षण के लिए यह सोचे यदि धरा पर वन नहीं होंगे तो क्या होगा. वातावरण में जहरीली गैसों की मात्रा बढ़ जाएगी, मानव जाति संक्रामक रोगों से आक्रांत हो उठेगी, लोगों को घर बनाने के लिए तथा जलाने के लिए लकड़ी उपलब्ध नहीं होगी. पेड़ नहीं होंगे तो वर्षा भी नहीं होगी अकाल की मार से समूचा जीव जगत समाप्त हो जाएगा.

आज के कार्यक्रम में उपस्थित सभी दोस्तों से यह गुजारिश करना चाहूँगा कि जब तक जंगल है तब तक ही मंगल हैं. यदि जिस गति से वन उजड़ रहे है यह चक्र चलता रहा तो हमारी सृष्टि का अंत करीब हैं. हमें अपने तथा आने वाली पीढ़ियों के भविष्य के लिए आज जागना होगा तथा वनों की अनियंत्रित कटाई को रोकने के लिए अपने अपने स्तर पर शुरुआत करनी ही होगी.

उम्मीद करता हूँ दोस्तों वनों की कटाई पर भाषण Speech on deforestation in hindi का यह भाषण आपकों पसंद आया होगा, यदि आपकों इसमें दी गई जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें.

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

अपनी मूल्यवान राय दे