100- 200 Words Hindi Essays 2022, Notes, Articles, Debates, Paragraphs & Speech Short Nibandh Wikipedia

नारी शक्ति पर निबंध Essay On Woman Power In Hindi

नारी शक्ति पर निबंध Essay On Woman Power In Hindi- इस संसार की सबसे श्रेष्ठ तथा महान शक्ति नारी शक्ति है. नारी शक्ति से ही हमारा उदय होता है. आज के आर्टिकल में हम नारी शक्ति के बारे में विस्तार से पढेंगे.

नारी शक्ति पर निबंध Essay On Woman Power In Hindi

नारी शक्ति पर निबंध Essay On Woman Power In Hindi
इस संसार की शुरुआत नारियों से ही होती है यानी ब्रह्मांड की उत्पत्ति नारी शक्ति से है। मनुष्य जीवन की शुरुआत नारी की गर्भ से होती है नारी के मार्गदर्शन के बदौलत ही व्यक्ति विजय वृक्ष बनता है.

यानी नादान से समझदार बनता है। नारी घर परिवार और राष्ट्र का मसीहा होती है नारी लगातार कार्य करती है घर का सारा काम नारियों के दायित्व में होता है. तथा ये अन्य बाहरी कार्य भी करती है.

राष्ट्र निर्माण में नारियो की महत्वपूर्ण भूमिका होती है. आज प्रत्येक क्षेत्र में महिलाए पुरुषो से श्रेष्ठ है. पर महिलाओ को कम अवसर मिलने के कारण वे पिछड़ी हुई है. नारी शक्ति हमारी सबसे बड़ी शक्ति है.

नारी शक्ति के बिना हमारा कोई आसित्व नहीं है. इस कारण नारी शक्ति को सबसे श्रेष्ठ माना जाता है. हमारे समाज के निर्माण में महिलाओ की महत्वपूर्ण भूमिका है.

आधुनिक नारियो को प्राचीन सामाजिक कुरूतियो का सामना करना पड़ रहा है. हमारे इतिहास में अनेक ऐसे समाज सुधारक हुए जिन्होंने नारी शक्ति को बढ़ावा देने का प्रयास किया. जिसमे राजाराम मोहन राय जैसे अनेक समाज सुधारक रहे.

समाज की कुछ प्रथाओ के कारण आधुनिक नारिया पिछड़ी हुई है. कुरूतियो के कारण आधुनिक नारिया अधीनता से जी रही है. पर नारियो के लिए कोई आवाज नहीं उठा रहा है. इसी कारण ये प्रथाए आज तक चल रही है. जिसे तत्काल खत्म कर देना चाहिए.

आज हम सभी को एकजुट होकर नारियो के लिए आवाज उठानी चाहिए. उनके प्रति जनजागृति को बढ़ाना चाहिए. एक राष्ट्र में विकास में महिलाओ और पुरुषो की सामान भूमिका होती है, पर हमारे देश में महिलाओ की भयानक स्थिति होने के कारण वे देश के विकास में अपना योगदान नहीं दे पा रही है.

आज की महिलाए अपनी शिक्षि बुद्दी व मार्गदर्शन कर हमारे समाज और हमारे देश को उच्च स्तर तक ले जा सटी है. आज तक महिलाओ को कम अवसर मिलते आ रहे है, पर जो कार्य महिलाए क्र रही है. उसमे वे सबसे श्रेष्ठ है. यानी महिलाओ पुरुषो की तुलना में बेहतर कार्य कर सकती है.

महिलाए ऑल राउंडर की भांति हर क्षेत्र में कार्य करती है. और उनके हर कार्य प्रशंसनीय है. वे किसी भी परस्थिति का सामना करने के लिए तैयार रहती है. और कड़ी से कड़ी मेहनत कर सफलता तक पहुच जाती है.

नारियो में हमेशा कोमलता नजर आती है. जिस कारण उन्हें पिछड़ा जाता है. भारतीय नारी हर कार्य करने में सक्षम है. अब नारिया अबला नहीं सबला है. उनकी कोमलता उनकी सबसे बड़ी विशेषता है.

हमें सभी नारियो का सम्मान करना चाहिए. क्योकि आज हम इस संसार में जी रहे है. इसका प्रमुख कारण माँ ही होती है. माँ ही हमें जन्म देती है. हां मान लिया कि हर नारी हमारी मान नहीं होती है, पर वो नारी अन्य किसी की तो माँ हो सकती है.

माँ हमें जन्म देती है. बड़ा करती है. हमारा लालन पालन करती है. यदि हम उन्ही नारियो को उन्ही माँ को पिछड़ने लगेंगे तो समाज का निर्माण कौन करेगा? कैसा नवजात शिशुओं का जन्म होगा? कौन उनका लालन-पालन करेगा? नारी समाज का पोषण है.

आधुनिक नारिया गृहणी ही नहीं रही वह अन्य कार्य भी सरलता से करती है. जैसे राजनीति, धर्म, कानून, न्याय, शिक्षक, डॉक्टर तथा एक सलाहकार के रूप में बखूबी कार्य करती है.

आज हर कार्य में हर पेशे में नारी शक्ति निहित है. हर कार्य नारी शक्ति इ बिना अधुरा है. आज हर कार्य में नारिया पुरुषो के साथ कंधे से कन्धा मिलाकर उनका साथ दे रही है.

नारिया पुरुषो का बखूबी साथ दे रही है, तो पुरुषो का दायित्व बनता है. कि वे भी महिलाओ की सहायता करें. तथा उन्हें संरक्षण प्रदान अरें. और उनके कार्य में आने वाली बाधाओं को दूर करें.

महिलाओ को प्रतिभा को तरसने की जरुरत है. महिलाए आज हर कार्य करने में सक्षम है, पर उन्हें अवसर नहीं मिल रहे है. जिस कारण महिलाओ को कार्य करने योग्य नहीं माना जाता है.

यदि हमे महिलाओ को बिना अवसर दिए उनकी प्रतिभा का ज्ञान करना है, तो हमें इतिहास के पन्नो को पलटना होगा, इतिहास की महान विदुषियो के बारे में पढ़ना होगा, जो कार्य पुरुष नहीं कर सकें. वे कार्य महिलाओ ने कर दिखाए थे. याद करो झांसी की रानी ओ याद करो उनकी वीरता को.

क्या झाँसी की रानी महिला नहीं थी. जिसने सभी अंग्रेजो को नारियो की शक्ति का प्रभुत्व बताया. आज की महिलाए झाँसी की रानी लक्ष्मीबाई से कम नहीं है. पर हमे उन्हें अवसर देने की जरुरत है.

हमारे इतिहास के महान से महान लोगो ने महिलाओ को श्रेष्ठ बताया है. आप उदहारण के लिए विवेकानंदजी को लो या लो गाधी जी को जिन्होंने महिलाओ को पुरुषो के समान बहादुर और वीर बताया है.ल

आधुनिक महिलाए पुरुषो से कम नहीं है. वे हर कार्य में उत्कृष्टता दिखा रही है. आज हमारे देश में विकास काफी तेजी से हो रहा है. जिसका कारण महिलाओ के विकास से होता है.महिलाओ की शिक्षा की ओर ध्यान दिया जा रहा है. बेटियों को बचाया जा रहा है. उन्हें समान अवसर दिए जा रहे है.

Essay 2

भारतीय नारी वैदिक काल से ही अपने आप में समृद रही है. महिलाओ को कमजोर समझने वाले लोग खुद कमजोर होते है. नारियो ने अपनी शक्ति से सभी को अवागत कराने के लिए अनेक उदहारण पेश किये है.

आधुनिक समय की महिलाओ के साथ अत्याचार लगातार बढ़ते जा रहे है. पर हमें भूलना नहीं चाहिए. झाँसी की रानी को जिन्होंने अपनी शक्ति से सभी को प्रभावित किया. आखिर वो भी महिला ही थी.

नारी परिवार की इज्जत होती है. नारी से सभी का कल्याण होता है. नारिया सरल स्वाभाविक होती है. हमेशा सभी के साथ अच्छा व्यवहार करती है. परिवार में सभी का किरदार निभाने का काम नारी का होता है.

हर व्यक्ति की जननी माता महिला ही होती है. इसलिए हमे इन्हें नहीं भूलना चाहिए. महिलाए जितनी स्ब्भाव में सरल होती है. उतनी ही गुस्से में विक्रार रूप धारण कर लेती है.

नारी का जीवन आज संकट में है, क्योकि नारियो को बोझ समझा जाता है. पर असलियत ये है, कि नारी बोझ नहीं बोझ झेलने वाली होती है. परिवार की हर परस्थिति में अच्छे से संचालन करती है.

महिलाओ में सहनशीलता सबसे अधिक होती है. हर परस्थिति में महिलाए खुद को संभाल लेती है. हर समय संघर्ष करना महिलाओ का गुण है. जिसे ये हमेशा अपनाती है.

नारी का जीवन देवी के समान होता है. ये सभी के लिए कल्याणकारी होती है. नारियो का हमारे जीवन में विशेष महत्व होता है. हमें महिलाओ की सहयता करनी चाहिए. ये हमारा कर्तव्य है.

ये भी पढ़ें
प्रिय दर्शको उम्मीद करता हूँ, आज का हमारा लेख नारी शक्ति पर निबंध Essay On Woman Power In Hindi आपको पसंद आया होगा, यदि लेख अच्छा लगा तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें.