100- 200 Words Hindi Essays 2021, Notes, Articles, Debates, Paragraphs & Speech Short Nibandh Wikipedia

मेरा प्रिय खिलाड़ी विराट कोहली निबंध My Favourite Player Virat Kohli Essay in Hindi

भारत के वर्तमान कप्तान तथा श्रेष्ठ क्रम में बल्लेबाज विराट कोहली अपने प्रदर्शन के कारण आज एक लोगप्रिय खिलाडी है.मेरा प्रिय खिलाडी विराट कोहली है.आज के इस आर्टिकल में हम विराट कोहली के बारे में सम्पूर्ण जानकारी प्राप्त करेंगे.

मेरा प्रिय खिलाड़ी विराट कोहली निबंध My Favourite Player Virat Kohli Essay in Hindi

आज के जमाने का सबसे लोकप्रिय खेल क्रिकेट है क्रिकेट के खेल को भारत सहित अनेक देशों की क्रिकेट टीमें खेलती है हमारी देश की क्रिकेट टीम बहुत ही शानदार प्रदर्शन कर रही है.

वैसे तो भारतीय टीम के सभी प्लेयर खिलाड़ी मुझे बहुत अच्छे लगते हैं पर मेरा सबसे प्रिय खिलाड़ी विराट कोहली है.कोहली को रन मशीन तथा चीकू के नाम से जानते है.

भारतीय टीम के वर्तमान कप्तान विराट कोहली मेरा प्रिय खिलाड़ी है विराट कोहली वर्तमान में देश की तीनों फॉर्मेट की क्रिकेट टीम का कप्तान भी है विराट कोहली आईपीएल में बेंगलुरु टीम के कप्तान भी हैं.

विराट कोहली बहुत ही धाकड़ बल्लेबाज है यह आक्रामक रवैया के साथ बैटिंग करते हैं विराट कोहली विश्व के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाजों में से एक है विराट कोहली वनडे और टेस्ट में शीर्ष स्थान पर बरकरार हैं वही T20 क्रिकेट में यह टॉप 10 में शामिल है विराट कोहली युवाओं की पसंद है.

विराट कोहली दाए हाथ के बल्लेबाज के साथ-साथ ये कभी-कभी बॉलिंग भी करते है। विराट कोहली को चीकू तथा रन मशीन के नाम से भी जानते है।

विराट कोहली को भारत का सबसे लोकप्रिय खिलाड़ी माना जाता है विराट कोहली एक बड़े बल्लेबाज होने के बाद भी यह किसी भी बात का घमंड नहीं करते हैं तथा शांत स्वभाव के हैं कभी-कभी क्रोधित हो जाते हैं पर मुझे इनका स्वभाव बहुत पसंद है.

विराट कोहली को देखकर कई युवाओं को प्रेरणा भी मिलती है जिस प्रकार विराट कोहली ने अपनी परिस्थितियों के अनुसार क्रिकेट खेल कर आज वह अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के तीनों फॉर्मेट के कप्तान हैं.

विराट कोहली का जन्म भारत की वर्तमान राजधानी दिल्ली के गुड़गांव मैं 5 नवंबर 1988 को हुआ था विराट कोहली की माता का नाम सरोज कोहली है तथा पिता का नाम प्रेम कोहली  है विराट कोहली का एक बहन और एक भाई है.

विराट के बड़े भाई का नाम विकास तथा एक बहन जिसका नाम भावना है विराट कोहली का बचपन संघर्षों में बीता इन्होंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा अपने स्थानीय विद्यालय विशाल भारती में शिक्षा ग्रहण की. 

विराट कोहली के पिता पेशे में एक वकील थे परंतु विराट कोहली जब 18 वर्ष के हुए तब उनके पिता का देहांत हो गया अपने पिताजी के अभाव में विराट कोहली ने संघर्ष को नहीं छोड़ा.

विराट कोहली के पिता का सपना था कि नहीं कि मेरा बेटा बड़ा होकर एक महान  क्रिकेटर बनेगा विराट कोहली ने अपने पिताजी के इस सपने को पूरा करने के लिए कठोर मेहनत की तथा साथ ही अपने परिवार की जिम्मेदारी निभाते हुए इस मुकाम तक पहुंचे 

विराट कोहली बचपन से ही क्रिकेट में दिलचस्पी रखते थे वे क्रिकेट के बहुत शौकीन के हर समय वह क्रिकेट खेला करते थे वे अपने मोहल्ले के सबसे श्रेष्ठ खिलाड़ी थे. 

इसलिए विराट कोहली को क्रिकेटर बनने के लिए प्रेरित किया गया जिस पर विराट कोहली खरे उतरे  विराट कोहली कक्षा नवी के क्रिकेट की अकादमी में प्रवेश कर लिया था.

विराट कोहली के प्रदर्शन को देखते हुए मोहल्ले के लोगों ने कोहली के पिता जी से उन्हें किसी अकादमी में प्रवेश करवाने के लिए कहा और विराट कोहली को राजीव कुमार शर्मा ने अकादमी में दाखिल कराया विराट कोहली क्रिकेट के साथ साथ पढ़ाई में भी बहुत होशियार और होनहार छात्र थे.

विराट कोहली के निरंतर अभ्यास के चलते 6 वर्ष बाद यानी 2004 को उन्हें अंडर-17 दिल्ली क्रिकेट टीम के खिलाड़ी के रूप में चयन किया गया.

इस टूर्नामेंट में टोटल 4 मैच खेले गए जिसमें विराट कोहली ने अपना दबदबा बनाए रखा कोहली ने एक पारी में 251 नाबाद रन बनाए साथ ही पूरे टूर्नामेंट में 450 रन जड़ कर अपना नाम सुर्ख़ियों में डाल दिया.

इसके बाद अगले साल हो रही विजय हजारे ट्रॉफी में विराट को चयन किया गया कोहली ने इस बार भी अपना प्रदर्शन बरकरार रखा और सात मैचों में 757 रन बनाकर सभी के दिल को जीत लिया इस टूर्नामेंट में उनके दो शतक भी शामिल थे इसके बाद विराट सुर्खियों में आ गए.

इसके बाद जुलाई 2006 में विराट कोहली को अंडर-19 क्रिकेट में चयन कर लिया गया इस बार के मुकाबले इंग्लैंड के खिलाफ थे जिसमें विराट कोहली ज्यादा कुछ प्रदर्शन नहीं दिखा पाए पर आगे होने वाली पाकिस्तान के खिलाफ सीरीज में विराट ने शानदार प्रदर्शन करते हुए अपने इस आक्रमक अंदाज को जारी रखा.

विराट कोहली प्रत्येक मैच में रन बना देते और अपनी टीम को जीत दिलाने में अपना प्रयास करते थे इसलिए विराट कोहली की योग्यता को देखकर उन्हें स्थाई रूप से टीम में रख लिया  गया।

अब ऐसा लग रहा था कि विराट कोहली कुछ ही सालों में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट टीम का हिस्सा हो जाएंगे तभी दिल्ली और कर्नाटक के बीच खेले जा रहे मुकाबले के दिन विराट कोहली के पिताजी का देहांत हो गया.

पर विराट कोहली ने  इस खबर को सुनने के बाद भी  इस मैच को  पूरा किया और फिर अपने घर चले गए। विराट कोहली अपने पिताजी को खोने के बाद भी उनके सपने को नहीं खोना चाहते थे।

इसलिए उन्होंने क्रिकेट को नहीं छोड़ा तथा एक के बाद एक टूर्नामेंटों में भाग लिया और अपनी टीम को जीत दिला कर अपने आप को बड़ा क्रिकेटर साबित कर दिखाया।

विराट कोहली ने वनडे क्रिकेट में 18 अगस्त 2008 को श्रीलंका के खिलाफ पदार्पण किया जिसमें विराट मात्र 12 रन की पारी खेलकर आउट हो गए। पर विराट कोहली के रिकॉर्ड को देखते हुए भारतीय टीम ने उन्हें टीम से बाहर नहीं किया पर काफी समय तक अपना प्रभावशाली रूप ना दिखाने के कारण विराट को बाहर कर दिया गया 20 जून 2011 को वेस्टइंडीज के खिलाफ विराट कोहली का टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण हुआ.

2017 मे विराट कोहली ने अनुष्का शर्मा से विवाह किया। विराट कोहली के एक बेटी भी है। जिसका नाम वामिका है। विराट कोहली 2014 व 2016 मे मैं ऑफ द टूर्नामेंट के नवाजा गया।

विराट ने शतकीय पारी खेलकर जीत के साथ शुरुआत की इस टूर्नामेंट मे विराट ने 282 रन बनाए। विश्व कप के पहले मैच मे शतक लगाने वाले पहले खिलाड़ी भी बने।

इस टूर्नामेंट मे कोहली के अलावा गौतम गंभीर,वीरेंद्र सहवाग तथा युवराज सिंह ने अपने बेहतर प्रदर्शन के चलते भारतीय टीम को दूसरी बार विश्व कप का चैपियन बनाया।

2011 के विश्व कप के बाद विराट ने टीम मे अपनी जगह पक्की कर ली। जिसके बाद विराट ने एक से बढ़ाकर एक पारी खेलकर टेस्ट और ओडीआई क्रिकेट के नंबर वन बलेबाज बन गए। 

2014 मे महेंद्र सिंह धोनी के क्रिकेट छोड़ने के बाद विराट को टेस्ट क्रिकेट का कप्तान भी बना गया। जिसके बाद विराट ने शानदार कप्तानी करते हुए। 

खुद के साथ-साथ भारतीय टीम को भी रैंकिंग मे शीर्ष पर रखा। और आज तक हमारे देश की टीम अव्वल पर है।

इसके बाद कोहली को वनडे क्रिकेट तथा टी20 क्रिकेट का भी कप्तान बना दिया गया। आज विराट तीनों फॉर्मेट के कप्तान है। वे अपने शानदार प्रदर्शन के साथ हमारे देश को मैच जीतकर हमारा गौरव बढ़ा रहे है।

विराट कोहली के नाम अनेक वर्ल्ड रिकॉर्ड है। विराट को अर्जुन पुरूस्कार तथा पद्माश्री पुरस्कार से नवाजा गया है। ये एक ऐसे खिलाड़ी है। जिन्हे तीन बार लगातार मैन ऑफ द इयर का सम्मान दिया गया है।

विराट कोहली के वर्ल्ड रिकॉर्ड- बतौर केप्टन सबसे तेज 12000 हजार रन बनाने वाले खिलाड़ी बने विराट कोहली इस मामले मे विराट ने रिकी पोंटिंग को पीछे छोड़ा। कोहली ने मात्र 226 परियो मे 12000 रन बनाए। वही टी20 मे 3000 रन बनाने वाले पहले खिलाड़ी बने विराट कोहली।

बतौर कप्तान सबसे ज्यादा रन बनाने के मामले मे कोहली तीसरे स्थान पर है। और जल्द ही वे शीर्ष बलेबाज बन जाएंगे। सबसे ज्यादा रन बनाने वाले भारतीय कप्तान है। विराट कोहली। इस मामले मे कोहली एमएस धोनी से भी आगे है।

प्रिय दर्शको आज का हमारा लेख  मेरा प्रिय खिलाड़ी विराट कोहली निबंध My Favourite Player Virat Kohli Essay in Hindi आपको कैसा लगा? कमेन्ट मे अपनी राय दें। तथा पसंद आया तो इसे अपने दोस्तो के साथ शेयर करें।