100- 200 Words Hindi Essays 2021, Notes, Articles, Debates, Paragraphs & Speech Short Nibandh Wikipedia

ब्लैक फंगस पर निबंध Essay On Black Fungus In Hindi

ब्लैक फंगस पर निबंध Essay On Black Fungus In Hindi नमस्कार दोस्तों पुरे विश्व में कोरोना से हालात ख़राब है, वही इसी समय एक और नए रोग ने दस्तक दे दी है. ये रोग आखो का रोग है. जिसे हम ब्लैक फंगस कहते है. आज हम ब्लैक फंगस के बारे में पढेंगे.

ब्लैक फंगस पर निबंध Essay On Black Fungus In Hindi

ब्लैक फंगस नामक एक और बीमारी चुनौती भरे इस कोरोना काल में नई मुसीबतें लेकर आई है। ऐसे में सावधानी बरतना तथा सरकारी गाइडलाइन का पालन करना अत्यंत आवश्यक हो गया है।


ब्लैक फंगस  जिसे म्यूकरमायकोसिस भी कहा जाता है। आजकल कोरोना के साथ-साथ ब्लैक फंगस इंफेक्शन भी देखने को मिल रहा है। आज के इस लेख में हम ब्लैक फंगस की सामान्य जानकारी जो जन जागरूकता के लिए  महत्वपूर्ण हो सकती है प्रदान कर रहे हैं।


हाल ही में ब्लैक फंगस के मामलों में लगातार वृद्धि देखी जा रही है। भयानक बीमारियों  से ग्रसित व्यक्ति की मौत सामान्यता कुछ समय के बाद होती है परंतु ब्लैक फंगस में रोगी की मौत कुछ ही घंटों या दिनों में हो जाती है ।  इससे इसकी भयानक था का अंदाजा लगाया जा सकता है । 


हालांकि शुरुआती दौर में इसका पता चलने पर आसानी से काबू पाया जा सकता है। ब्लैक फंगस के मामले 2020 के अंत में नजर आए थे परंतु हाल के दिनों ब्लैक फंगस इंफेक्शन के मामलों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है।

ब्लैक फंगस इन्फेक्शन म्यूकर फफूंद के कारण होता है। तथा इसे कोरोनावायरस ट्रिगर करता है। कोई भी व्यक्ति वायु में पाए जाने वाले रोगाणुओं के संपर्क में आने से भी इससे संक्रमित हो सकता है। 


यह ज्यादातर मामलों में सांस के साथ शरीर में प्रवेश करता है. ब्लैक फंगस व्यक्ति की त्वचा पर भी पनप सकता है  त्वचा पर लगे घाव से यह शरीर में प्रवेश कर सकता है।


विशेषज्ञों की मानें तो ब्लैक फंगस इंफेक्शन उन लोगों को जल्दी हो रहा  है जो कोरोना से जूझ रहे हैं या फिर किसी अन्य बीमारी से ग्रसित है । दूसरे शब्दों में अत्यधिक कमजोर इम्यून सिस्टम वाले व्यक्तियों  को अधिक जागरूक तथा संभलकर रहने की आवश्यकता है।

 

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च के अनुसार कोरोना से पीड़ित उन्हीं व्यक्तियों को ब्लैक फंगस से ज्यादा खतरा है जो

1. जिनकी इम्यूनिटी कोरोना के दौरान स्टेरॉयड लेने से अत्यधिक कमजोर हो गई है.

2. अनियंत्रित डायबिटीज या हाई ब्लड प्रेशर

3. वे रोगी जो अधिक समय तक आईसीयू में रहे हो या लंबे समय से अस्पताल में भर्ती हो

4. अन्य किसी खतरनाक बीमारी जैसे कैंसर या फिर पोस्ट ऑर्गन ट्रांसप्लांट वाले व्यक्ति.


ब्लैक फंगस के लक्षण

1. आंखों में दर्द तथा आंखों का लाल हो जाना

2. बलगम तथा उल्टी होने पर खून का आना

3. तेज बुखार ,सरदर्द ,खांसी तथा सांस में तकलीफ होना

4. मानसिक स्थिति में असामान्य परिवर्तन भी देखे जा सकते हैं।

5. चेहरे पर सूजन ,नाक का बंद होना ,चेस्ट में दर्द तथा मुंह व नाक में काले घाव दिखाई देना.

6. आंखों में जलन तथा सूजन, धुंधला दिखाई देना.

उपरोक्त में से किसी भी लक्षण को नजरअंदाज करना खतरनाक साबित हो सकता है। विशेष तौर पर कोरोना संक्रमित तथा कम इम्यूनिटी वाले व्यक्ति तुरंत डॉक्टर से परामर्श लें।


ब्लैक फंगस से बचने के लिए क्या किया जा सकता है?

सावधानी सबसे बड़ा उपाय है। वर्तमान दौर में जब अस्पतालों में जगह नहीं मिल रही है ,ऐसे समय में बचाव तथा जागरूकता ही सबसे बड़ा हथियार है.

1.स्टेरॉयड का प्रयोग डॉक्टर की सलाह से ही करें अथवा अतिआवश्यक होने पर ही करें.

2. एंटीबायोटिक दवाओं का प्रयोग आवश्यकता और जागरूकता से करें

3. ब्लड शुगर की मॉनिटरिंग समय-समय पर करते रहें तथा इसे नियंत्रित रखें

4. धूल अथवा डस्ट भरे स्थानों से दूरी बनाए रखें तथा मास्क का प्रयोग करें

5. चेहरे को दिन में दो-तीन बार धोएं, फल सब्जियों का प्रयोग सावधानी से करें.

6. जरा भी लापरवाही ना करें, विशेषज्ञों की राय का अनुसरण करते रहे


किसी भी प्रकार का लक्षण दिखाई देने पर सावधान हो जाएं। ब्लैक फंगस को शुरुआती दौर में रोक देना महत्वपूर्ण है लक्षण दिखाई देने पर डॉक्टर से सलाह लें। डॉक्टर के द्वारा प्रदान की गई सलाह का अनुसरण करें।

 

ब्लेक फंकज रोग उन लोगो को होता है।जिनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होती है। उन लोगो को ही इससे सबसे ज्यादा खतरा रहता है।


इस रोग का सबसे ज्यादा खतरा उन लोगो को रहता है।जिन्हे कोरोना हुआ हो। उनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता कम हो जाती है। इसी कारण ये रोग पैर पसारता जा रहा है। इस रोग के शिकार कोरोना मरीज ही नहीं बल्कि सुगर रोग के तथा कैंसर रोग के मरीज भी हो सकते है। 

  1. मास्क का प्रयोग करना।
  2. गीली मिट्टी को नंगे हाथो से नहीं छूए।
  3. निरंतर अच्छी तरह से हाथ धोए।
ये भी पढ़ें
प्रिय दर्शको उम्मीद करता हूँ, आज का हमारा लेख ब्लैक फंगस पर निबंध Essay On Black Fungus In Hindi आपको पसंद आया होगा, यदि लेख अच्छा लगा अतो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें.