100- 200 Words Hindi Essays 2021, Notes, Articles, Debates, Paragraphs & Speech Short Nibandh Wikipedia

योग गुरु बाबा रामदेव पर निबंध Essay On Baba Ramdev in Hindi

बाबा रामदेव पर निबंध Essay On Baba Ramdev in Hindi- आयुर्वेद ज्ञान के प्रसिद्ध ज्ञाता था तथा शिक्षा का प्रचार प्रसार करने वाले योग गुरु के नाम से विख्यात बाबा रामदेव ने अपने जीवन को देश सेवा के लिए लगा दिया रामदेव की वजह से भारत को किसी अन्य देश से दवाइयां खरीदने की जरूरत नहीं है.

इस प्रकार उन्होंने देश को आत्मनिर्भर बनाने मैं सहायता प्रदान की है। आज के इस आर्टिकल में हम योग गुरु बाबा रामदेव के जीवन परिचय के बारे में विस्तार से जानेंगे।.

योग गुरु बाबा रामदेव पर निबंध Essay On Baba Ramdev in Hindi
योग गुरु बाबा रामदेव पर निबंध Essay On Baba Ramdev in Hindi
आज के संकटपूर्ण समय में औषधियों का निर्माण कर देश के नागरिको का देशी इलाज करने में प्रसिद्ध बाबा रामदेव आयुर्वेदिक दवाइयों के लिए काफी प्रसिद्ध व्यक्ति रहे है.

बाबा रामदेव का वास्तविक नाम रामकृष्ण यादव था रामकृष्ण यादव का जन्म 25 सितंबर 1965 को सैयद अली अली पुर कस्बा हरियाणा में हुआ इनके पिता का नाम रामनिवास यादव तथा माता का नाम गुलाबो देवी था।

बाबा रामदेव को योग गुरु के नाम से भी जानते हैं। बाबा रामदेव ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा प्राप्त करने के बाद गुरुकुल कांगड़ी में प्रवेश किया जो कि हरिद्वार में है.

बाबा रामदेव के छोटे भाई भी हैं जिनका नाम राम भारत है। योग गुरु बाबा रामदेव नए संस्कृत योग का अध्ययन भी किया। रामकृष्ण यादव ने अपने युवा जीवन में ही सन्यास ग्रहण कर लिया|

रामकृष्ण यादव संन्यास लेने के बाद बाबा रामदेव के नाम से विख्यात हैं। बाबा रामदेव को बचपन में लकवा ग्रस्त हो जाने के कारण वे दवाइयों का निर्माण करवाने के लिए  आगे आए। और आज हर प्रकार की दवाइयां बाबा रामदेव द्वारा स्वनिर्मित मिलती है।

कई लोगो के मन में एक सवाल बनता है? क्या बाबा रामदेव ने शादी की है? इसका जवाब है.नहीं बाबा रामदेव की आयु 56 वर्ष है.पर अभी तक वह कुंवारे है.उनका मानना है.कि कुंवारा रहना ही उनकी सफलता का कारण है.और वे जीवन भर कुंवारे ही रहेंगे.

1996 में बाबा रामदेव ने कर्मवीर के साथ मिलकर दिव्य योग मंदिर ट्रस्ट की स्थापना की इसके बाद बाबा रामदेव के योग को देखते हुए 2003 में उन्हें आज तक टीवी पर पहली बार दिखाया गया।

जब भी योग या व्यायाम का नाम आता है.तो सभी की नजर बाबा रामदेव पर पड़ती है.बाबा रामदेव अपने प्राणायाम और अभी आराम के लिए विख्यात है बाबा रामदेव बिस्मिल्लाह खान और चंद्रशेखर आजाद को अपना आदर्श व्यक्ति मानते हैं।

आयुर्वेद और योग के सबसे बड़े केंद्र पंतजलि योग पीठ की स्थापना सन 2006 में बाबा रामदेव ने की जिसमें 6000 लोग इस केंद्र से जुड़े।

बाबा रामदेव की सफलता उनकी मेहनत को दर्शाती बाबा रामदेव का मानना है कि वह सुबह 3:00 बजे उठकर दिन में लगभग 15 से 20 घंटे तक कार्य करते हैं।

बाबा रामदेव हरी सब्जियां और गाय के शुद्ध दूध गोपी कर अपना जीवन व्यतीत कर रहे हैं। बाबा रामदेव डॉक्टर के रूप में भी कार्य कर चुके हैं.

बाबा रामदेव ने रामलीला में हो रहे भ्रष्टाचार पर आंदोलन चलाएं जिस कारण उन्हें जेल में भी जाना पड़ा। अपनी युवावस्था में ही बाबा रामदेव सन्यासी बन गए और अपने घर को छोड़कर हिमालय चले गए.

हिमालय जाने के बाद उन्होंने कई सालों तक कठोर तपस्या की और इसके बाद शास्त्रों का अध्ययन भी किया इसके बाद उन्होंने आयुर्वेदिक ज्ञानी के साथ मिलकर वापस हिमालय चले गए।

आज बाबा रामदेव योग के कार्यक्रम  बाबा रामदेव भारत के बड़े से बड़े टीवी चैनल पर अपने योग कार्यक्रम दर्शाते हैं। वे शिविर का आयोजन भी करते हैं।

2002 में बाबा रामदेव ने अपने पेट हिलाने वाले व्यायाम से पूरे देश को प्रभावित किया और इसके बाद बाबा रामदेव पूरे भारत में प्रसिद्ध हो गए।

बाबा रामदेव विज्ञापनदाता भी हैं वे अपनी पंतजलि आयुर्वेदिक लिमिटेड के लिए विज्ञापन का कार्य भी करते हैं। बाबा रामदेव के विज्ञापन के कारण ही आज सबसे ज्यादा पंतजलि की वस्तुओं बिकती है।

बाबा रामदेव का मुख्य उद्देश्य लोगों को योग सिखाना है और लोगों के प्रति महत्व के बारे में समझाना है। ग्रामीण लोगों को लोगों के बारे में बाबा रामदेव से ही सीखने को मिला है।

रामदेव ने अपने योग और व्यायाम से देश के सभी नागरिकों को प्रभावित किया। आज बाबा रामदेव से भारत के बाबा रामदेव के हर कार्यक्रम में भाग लेते हैं। बाबा रामदेव भारत सहित अन्य देशों में भी अपना प्रभुत्व  स्थापित कर चुके हैं।

रामदेव के द्वारा स्थापित की गई जिसका नाम  महर्षि पतंजलि के नाम पर रखा गया और आज हमारे देश में बाबा रामदेव की पतंजलि कंपनी काफी प्रसिद्ध है।

पतंजलि संस्था भी बनाई गई है जिसमें 10000 से भी अधिक मरीजों को रखने की जगह है। पतंजलि भारत में ही नहीं बल्कि अमेरिका कनाडा नेपाल इन देशों में भी पतंजलि को स्थापित किया गया है। इससे हमारे देश का गौरव बढ़ता है।

बाबा रामदेव अवार्ड व सम्मान (Baba Ramdev Achievements)-

बाबा रामदेव को भारतीय सरकार ने उनकी कीर्ति तथा जनसेवा के लिए अनेक पुरस्कारों से सम्मानित किया गया.जिसमें प्रमुख रूप से निम्न है-
  • कलिंगा यूनिवर्सिटी द्वारा 2007 में डॉक्टरेट की पदवी.
  • महाराष्ट्र सरकार द्वारा 2011 में सम्मान दिया गया.
  • हरियाणा सरकार द्वारा योग का राजदूत (ब्रांड एम्बेसडर) बनाया गया.
  • बाबा रामदेव को मानद डोक्टरेट की उपाधि IIT तथा एमिटी द्वारा दिया गया.
बाबा रामदेव योग के साथ-साथ राजनितिक जीवन भी जी रहे है.आज बाबा रामदेव अपने योग,जनसेवा तथा देश को आत्मनिर्भर देश बनाने में लगे हुए है.

हर समय बाबा रामदेव  नई से नई दवाइयों का निर्माण करते है.बाबा रामदेव कई बार सरकार के सामने आन्दोलन भी कर चुके है.वे हमेशा जनता के हित में रहते है.इसलिए बाबा रामदेव काफी लोगप्रिय है.

ये भी पढ़ें
उम्मीद करता हूँ,दोस्तों आज का हमारा आर्टिकल योग गुरु बाबा रामदेव पर निबंध Essay On Baba Ramdev in Hindi योग गुरु बाबा रामदेव की जीवन पर निबंध आपको पसंद आया होगा.यदि लेख अच्छा लगा तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें.